बैजनाथ, जेएनएन। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि जयराम सरकार केवल मात्र नाकामियों को छिपाने के लिए इन्वेस्टर्स मीट का स्वांग रच रही है। प्रदेश में अन्य देशों के लोग निवेश करें इसके वह कतई विरोध में नहीं है, परंतु इसके लिए पहले प्रदेश में उद्योगों को स्थापित करने के लिए मजबूत ढांचे की जरूरत है। मंगलवार को शिव मंदिर बैजनाथ में माथा टेकने के बाद मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि प्रदेश की सड़कों का बुरा हाल है। रेल तथा वायु सेवा नाममात्र की है। अच्छे निवेशक प्रदेश में जोखिम उठाने का काम क्यों करें।

मुख्यमंत्री समेत भाजपा नेता प्रधानमंत्री मोदी तथा शीर्ष नेतृत्व से नजदीकियों का ढिंढोरा पीट रहे हैं। अगर ऐसा है तो वह प्रधानमंत्री से प्रदेश के 60 हजार करोड़ के कर्जे को माफ करवाएं। हिमाचल में भी नॉर्थ ईस्ट तथा जम्मू की तरह औद्योगिक पैकेज की घोषणा की जानी चाहिए। प्रदेश की भोली-भाली जनता से वोट हासिल करने के लिए भाजपा ने यहां पर 65 हजार करोड़ की लागत से फोर लाइन सड़कों के निर्माण की बात कही थी, यहां तक कि केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने शिलान्यास भी कर दिए थे, इसके बावजूद आज अरसा बीत जाने के बाद एक पैसा खर्च नहीं हो पाया है।

मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि एक तरफ तो प्रदेश सरकार निवेशकों को लाने की बात कह रही है परंतु अगर कांग्रेस पार्टी ने हस्तक्षेप नहीं किया होता तो अब तक प्रदेश के 16 टूरिज्म के होटलों को प्राइवेट कंपनियों को बेच दिया होता। बाहरी लोगों को प्रदेश में नौकरियां दी जा रही हैं उसका कांग्रेस विरोध करती है। सरकार ने अगर फैसला वापस नहीं लिया तो कांग्रेस विरोध करेगी। इस अवसर पर पूर्व विधायक किशोरी लाल, प्रदेश महामंत्री महेश्वर चौहान, ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष वीरेंद्र जमवाल, रमेश चड्ढा, अजय कुमार, अमित शर्मा मनु, ज्वाला शर्मा, ङ्क्षपकू चौधरी, रविंद्र बिट्टू, पुङ्क्षष्पदर सूद, विनोद राणा, नमन कटोच, पृथी चंद, रमेश भाऊ, सुमित, शक्ति, सरदार गनी ङ्क्षसह व अन्य मौजूद रहे।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस