मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

धर्मशाला, जेएनएन। कांगड़ा के सांसद किशन कपूर ने सदन में प्रदेश के रेल विस्तार का मुद्दा उठाया है। शून्यकाल के दौरान उन्होंने कहा अंग्रेजी हकूमत के बाद प्रदेश में रेललाइन का विस्तार नहीं हो पाया है। अंग्रेजों ने 1926 में 45 मेगावाट शानन प्रोजेक्ट के लिए पठानकोट-जोगेंद्रनगर रेलवे लाइन का निर्माण किया था। यही नहीं शीतकालीन राजधानी होने के चलते उन्होंने कालका-शिमला रेल लाइन का निर्माण करवाया था। दुर्भाग्य की बात है कि इस रेल लाइन का एक इंच भी विस्तार नहीं हुआ है।

अगर अंग्रेज एक प्रोजेक्ट के लिए पूरी रेल लाइन बना सकते हैं तो चंबा में तो इस समय छोटे-बड़े करीब 72 विद्युत प्रोजेक्ट चल रहे हैं और चंबा देश के आकांक्षी जिलों में भी शामिल है। यहां भी रेल लाइन का विस्तार होना चाहिए। पूर्व सांसद शांता कुमार भी पठानकोट-जोगेंद्रनगर रेल मार्ग के विस्तार की बात करते रहे हैं। वहीं लोकसभा चुनाव के दौरान दैनिक जागरण ने भी पठानकोट-जोगेंद्रनगर नेरोगेज रेल मार्ग का मुद्दा प्रमुखता से उठाया था। बतौर सांसद किशन कपूर के रेलमार्ग को लेकर उठाए गए मुद्दे से आस जगी है कि पठानकोट-जोगेंद्रनगररेललाइन का विकास होगा।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप