शिमला, जागरण संवाददाता। वीकेंड पर पर्यटकों की आवाजाही के बाद सोमवार को स्थानीय लोगों की खूब चहल पहल रही। कई पर्यटक भी मौज मस्ती करते देखे गए। रविवार की छुट्टी के बाद अगले दिन रिज, मालरोड सहित लोअर बाजार में लोगों की भीड़ दिखाई दी। रिज व मालरोड पर कॉलेज के छात्रों के साथ अपने-अपने कार्यक्षेत्रों की ओर लोग जाते दिखे। वीकेंड पर जहां सैलानियों से रिज व मालरोड भरा दिखाई देता है वहीं वीकेंड के बाद बाजार में खरीदारी के लिए स्थानीय लोगों की खूब आवाजाही रहती है।

कालेजों में बढ़ी चहल पहल

कालेज खुलने के बाद रिज मालरोड पर चहल पहल बढ़ गई है। कालेज के बच्चे टका बैंच, ओपन थियेटर व झांसी पार्क में घूमने पहुंचते हैं। शिमला में कोरोना के मामले घटने के बीच स्थितियां सामान्य होती नजर आ रही हैं। हालांकि खतरा घटने के बीच लोगों ने एहतिहात बरतना नहीं छोड़ा है। रिज मालरोड सहित लक्कड़बाजार व लोअर बाजार में घूमने पहुंचे स्थानीय लोग मास्क लगाए होते हैं जबकि वीकेंड पर पर्यटक बिना मास्क के मस्ती करते दिखते हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने लोगों से अपील की है कि कोरोना की वैक्सीन की दोनों डोज लगवाना सुनिश्चित करें ताकि संक्रमण की चेन को तोड़ा जाए।

होटलों में 30 से 40 फीसद ऑक्यूपेंसी

वीकेंड पर शिमला के होटलों में जहां 70 से 80 फीसद ऑक्यूपेंसी बढ़ती है वहीं बाकी दिनों में यह आक्यूपेंसी घटकर 30 से 40 फीसद पहुंच गई है। वहीं पर्यटन कारोबारी उम्मीद जता रहे हैं कि मानसून बीतने के बाद शिमला में फिर पर्यटकों की आवाजाही बढ़ेगी। बरसात में पहाड़ों पर भूस्खलन के खतरे के बीच पर्यटक कम संख्या में शिमला घूमने आते हैं लेकिन इस मौसम के बाद पर्यटक फिर से शिमला के खुशनुमा मौसम का आनंद लेने पहुंचते हैं। पयर्टकों की आवाजाही का असर होटल कारोबारियों के अलावा टैक्सी चलाने वालों, छोटे बड़े दुकानदारों और घोड़ा संचालकों पर सीधा पड़ता है।

Edited By: Neeraj Kumar Azad