नगरी, कार्तिक शर्मा। प्राकृतिक उद्यान केंद्र एवं चिडिय़ाघर गोपालपुर में शेर और चिंकारा के जोड़े ने धनवर्षा की है। रविवार को एक ही दिन में 1026 लोगों ने इन मेहमानों को निहारा और इससे वन्य प्राणी विभाग को 18760 रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ है। दो दिन पहले ही वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने एनिमल एक्सचेंज कार्यक्रम के तहत गुजरात के जूनागढ़ चिडिय़ाघर से लाए गए नौ वर्षीय हेमल (नर) व पांच वर्षीय अकीरा (मादा) शेर-शेरनी सहित तीन वर्षीय पवन (नर) व तीन वर्षीय वर्षीय (मादा) चिंकारा के जोड़े को पिंजरे से आजाद कर बाड़े में प्रवेश करवाया था।

नौ नवंबर को चिडिय़ाघर पहुंचे शेर-शेरनी और चिंकारा के जोड़े को देखने के लिए स्थानीय लोगों में उत्सुकता थी। विभागीय देरी के कारण पर्यटकों को इसके लिए 38 दिन का इंतजार करना पड़ा था। रविवार को चिडिय़ाघर में पर्यटकों का हुजूम उमड़ आया। इस दौरान 1026 लोगों ने चिडिय़ाघर में प्रवेश कर मेहमान वन्य प्राणियों को निहारा और इससे वन्य प्राणी विभाग को टिकट के रूप में 18760 रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ है। ऐसे में चारों मेहमान चिडिय़ाघर के लिए लाभदायक सिद्ध हुए हैं। हालांकि पहले भी पर्यटकों की भीड़ रहती थी, लेकिन अब बढ़ गई है।

सांभर को गोली मार किया घायल

ज्‍वालामुखी के साथ लगते गांव रक्वाल लाहड़ में रविवार को एक व्यक्ति ने सांभर को गोली मारकर घायल कर दिया। इस दौरान वहां से गुजर रहे लोगों की नजर सांभर पर पड़ी तो उन्होंने इस बाबत सूचना पुलिस थाना ज्वालामुखी और वन विभाग को दी। पशु चिकित्सकों ने घायल सांभर का इलाज किया और बाद में उसे जंगल में छोड़ दिया। अरुण कुमार निवासी रक्वाल लाहड़ ने ज्वालाजी थाने में अज्ञात बंदूकधारी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवा दी है।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस