नगरोटा सूरियां, संवाद सूत्र। Kangra Train, पठानकोट-जोगेंद्रनगर रेलवे मार्ग पर देर शाम ठानकोट को जा रही ट्रेन हरनोटा फाटक के बीच में खराब हो गई। जिस कारण ट्रेन में बैठी सवारियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। ट्रेन के हांफ जाने से राजा का तालाब-जवाली मार्ग की आवाजाही बंद हो गई। दोनों तरफ वाहनों का लंबा जमावड़ा लग गया तथा बसों सहित अन्य वाहनों से आने वाले लोगों को भी भारी परेशानी झेलनी पड़ी। वाहन चालकों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ा।

वहीं लोगों को दूसरे रास्ते से जाने के लिए मजबूर होना पड़ा। ट्रेन में बैठी सवारियों ने ट्रेन के खराब हो जाने पर रेलवे विभाग को खूब कोसा। सवारियों ने कहा कि रेलवे विभाग द्वारा नए रेल इंजन भी उपलब्ध करवाए गए हैं। लेकिन अब नए रेल इंजन भी हांफने शुरू हो गए हैं। नए इंजन भी खराब होने शुरू हो गए हैं तो फिर इस ट्रैक का क्या बनेगा। आखिरकार कब तक ऐसा चलता रहेगा। ट्रेन चालक से जानना चाहा तो उन्होंने कहा कि इसके बारे में उच्चाधिकारियों को सूचित कर दिया गया है तथा पठानकोट से इंजन आएगा तभी ट्रेन को आगे खींचा जाएगा व पठानकोट पहुंचाया जाएगा।

पठानकोट से ट्रेन का इंजन आने के बाद ट्रेन को खींचकर पठानकोट ले जाया गया। करीब पांच घंटे ट्रेन हरनोटा फाटक पर रुकी रही, जिससे यात्रियों को परेशानी से दो चार होना पड़ा। न केवल यात्री बल्कि बस चालकों को भी इससे परेशानी हुई व अन्य वाहन चालक भी फंसे रहे।  ट्रेन फाटक पर आकर अचानक रुक गई, इससे किसी भी वाहन की आवाजाही नहीं हो पाई।

कांगड़ा घाटी ट्रेन सेवा को जिला की लाइफलाइन कहा जाता है। इस ट्रेन से हजारों लोग सफर करते हैं। अंग्रेजों के समय के इस ट्रैक पर नए इंजन के साथा रेलगाड़ी दौड़ रही हैं। इस रेलवे ट्रैक से पर्यटक भी काफी संख्‍या में सफर करते हैं।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma