शिमला, जागरण संवाददाता। SA One Exams, हिमाचल प्रदेश के ग्रीष्मकालीन स्कूलों में एसए वन यानी समेस्टिव असेस्मेंट परीक्षाएं 17 सितंबर से शुरू होंगी। हालांकि, नौवीं से जमा कक्षा की परीक्षाएं 17 सितंबर से, जबकि पहली से आठवीं की परीक्षाएं 19 सितंबर से शुरू होंगी। सभी स्कूलों व उपनिदेशकों को शेड्यूल भी भेज दिया है। इसके साथ ही विद्यार्थियों की सुविधा के लिए विभाग की वेबसाइट पर भी इसे डाल दिया है।

प्रदेश के स्कूलों में अब परीक्षाओं के लिए नया सिस्टम लागू किया है। इसमें एसए-वन पहली से आठवीं, जबकि टर्म सिस्टम बोर्ड कक्षाओं के लिए है। इस सिस्टम के तहत अब साल में दो बार परीक्षाएं देनी होती हैं।

पहली से पांचवीं की परीक्षाएं

तिथि,पहली,दूसरी,तीसरी,चौथी,पांचवीं

19 सितंबर,हिंदी,हिंदी,गणित,गणित,गणित

20 सितंबर,अंग्रेजी,अंग्रेजी,सामाजिक विज्ञान,सामाजिक विज्ञान

21 सितंबर,गणित,गणित,अंग्रेजी,अंग्रेजी,अंग्रेजी

22 सितंबर,हिंदी,हिंदी,हिंदी,हिंदी,हिंदी

छठी से आठवीं की परीक्षाएं

तिथि,छठी,सातवीं,आठवीं

17 सितंबर,अंग्रेजी,अंग्रेजी,गणित

19 सितंबर,कला,साइंस,संस्कृत

20 सितंबर,सामाजिक विज्ञान,सामाजिक विज्ञान,अंग्रेजी

21 सितंबर,संस्कृत,कला,कला

28 सितंबर,साइंस,गणित,समाज

29 सितंबर,गणित,हिंदी,साइंस

30 सितंबर,हिंदी,हिमाचल लोक संस्कृति,हिंदी

1 अक्टूबर,हिमाचल लोक संस्कृति,संस्कृत,हिमाचल लोक संस्कृति

इंजीनियरिंग छठे सेमेस्टर का परिणाम घोषित

हिमाचल प्रदेश तकनीकी बोर्ड ने जून-जुलाई में संचालित की इंजीनियरिंग छठे सेमेस्टर की नियमित एवं री-अपीयर का परिणाम घोषित कर दिया है। बोर्ड सचिव आरके शर्मा ने बताया कि परीक्षा परिणाम बोर्ड ने वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है। यदि कोई अभ्यर्थी अपने परिणाम से संतुष्ट नहीं है तो वह परिणाम घोषित होने के 14 दिन के भीतर उतर पुस्तिका पुनर्मूल्यांकन के लिए आवेदन कर सकता है। पुनर्मूल्यांकन के लिए आनलाइन आवेदन ही मान्य होंगे।

केंद्रीय संस्कृत विवि में गुरु-शिष्य का मिलन

केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय वेदव्यास परिसर बलाहर के निदेशक डा. मदन मोहन पाठक से पंजाब लुधियाना से अखिल भारतीय ज्योतिष कर्मकांड परिषद के राष्ट्रीय सचिव आचार्य संजीव शर्मा ने आशीर्वाद लिया। उन्होंने गुरु डा. मदन मोहन पाठक का हिमाचल में दोबारा आगमन पर स्वागत किया। विश्वविद्यालय के कंप्यूटर अध्यापक अमित वालिया ने बताया कि आचार्य संजीव शर्मा 2001-2002 में यहां विद्यार्थी रह चुके हैं और डा. मदन मोहन पाठक के शिष्य रहे है। इस मौके पर मदनलाल शर्मा, रणजीत सिंह, उमेश कुमार, विनोद कुमार, रविंद्र कुमार,  सुरिंद्र कुमार व अन्य मौजूद रहे।

Edited By: Virender Kumar