भोरंज, संवाद सहयोगी। भोरंज उपमंडल के चंबोह गांव की बेटी दीक्षा को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार कंगरी गांव निवासी पति नवीन और सास सलोचना को कोर्ट ने 25 सितंबर तक न्यायिक हिरासत भेज दिया है। पुलिस ने इन्हें कोर्ट में पेश किया।

जांच अधिकारी व अवाहदेवी पुलिस चौकी प्रभारी ज्ञान चंद ने बताया कि पुलिस इस मामले में सभी कडिय़ों पर गहन जांच कर रही है। पुलिस ने शिमला में जाकर उस होटल से भी साक्ष्य एकत्रित किए जहां दीक्षा और इसके पति ठहरे थे। पुलिस हर पहलू से जांच में तत्परता से जुटी है।

 

यह है मामला

चंबोह निवासी कश्मीर ङ्क्षसह व बबीता की होनहार बेटी की करीब आठ माह पूर्व शादी गांव कंगरी डाकघर नरेली निवासी नवीन कुमार पुत्र प्यार चंद से हुई थी। 25 वर्षीय दीक्षा पढऩे में भी होनहार थी। इसने एमएससी बायोटेक करके जीवन में कई सुनहरे सपने संजोए थे। वह 16 अगस्त को काला महीना काटने ससुराल से मायके आई थी। दो सितंबर को दीक्षा का पति चंबोह आया। वह पति संग शिमला घूमने चली गई। शिमला से वे सात सितंबर को वापस चंबोह पहुंच गए। दीक्षा के पिता कश्मीर ङ्क्षसह के मुताबिक, शिमला में उनके दामाद का व्यवहार दीक्षा के प्रति प्रताडि़त करने वाला दिखा जिसकी शिकायत दीक्षा ने उनसे की। दामाद शराब पीकर गाड़ी में दीक्षा को प्रताडि़त करता रहा। वह डिप्रेशन, कुंठा और दबाव में आकर परेशान दिखी। नौ सितंबर को दीक्षा ने चंबोह में कमरे में पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली। कश्मीर ङ्क्षसह तथा बबीता ने आरोप लगाया कि उनकी बेटी दीक्षा को सास सलोचना देवी और पति नवीन कुमार ने आत्महत्या करने के लिए मजबूर किया। दीक्षा के भाई विशाल और चाचा कश्मीर ङ्क्षसह ने बताया कि दीक्षा को उन्होंने आगे बढऩे व का हर अवसर प्रदान किया और अरमानों के साथ आठ माह पूर्व उसकी शादी कर दी।

मायके वालों की शिकायत पर भोरंज पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक दीक्षा का पति नवीन आर्मी में कार्यरत है तथा उसकी गिरफ्तारी की सूचना आर्मी हेड क्वार्टर को भी भेज दी गई है।

Edited By: Virender Kumar