सोलन, भूपेंद्र ठाकुर। Himachal Tomato Rates, हिमाचल का लाल सोना यानी टमाटर इस वर्ष मंडियों में कौड़ी के भाव बिक रहा है। बुधवार को टमाटर का न्यूनत्तम रेट चार रुपये प्रति किलो रहा है, जो इस सीजन का सबसे कम भाव है। चिंता की बात यह है कि इस वर्ष मंडी में 80 फीसद टमाटर बी व सी ग्रेड का आ रहा है, जिसकी वजह से अन्‍य राज्यों से हिमाचल में टमाटर खरीदने के लिए आने वाले व्यापारी अब वापस जाने लगे हैं। ए ग्रेड का टमाटर इस वर्ष मात्र 20 फीसदी है।

सोलन सब्जी मंडी की बात करें तो यहां एक माह में करीब तीन लाख क्रेट टमाटर पहुंच चुका है। सोलन, सिरमौर व शिमला से यहां पर इन दिनों औसतन 25 हजार क्रेट पहुंच रहे हैं। बी व सी ग्रेड के टमाटर का साइज या ताे सामान्य से काफी छोटा होता है या फिर काले रंगे के धब्बे पड़े होते हैं। एक अन्य दिक्कत इस वर्ष किसानों को आ रही है। आमतौर पर हाईब्रिड टमाटर चार से पांच दिन तक खराब नहीं होता है, लेकिन इस वर्ष हाईब्रिड टमाटर तीसरे दिन खराब हो रहा है। इसकी से भी रेट में लगातार गिरावट आ रही है।

मार्किट कमेटी सेालन के सचिव रविंद्र शर्मा का कहना है कि टमाटर का रेट कम होने की वजह गुणवत्ता में आई गिरावट है। इस वर्ष मंडी में बी व सी ग्रेड का टमाटर अधिक है, जिसका रेट काफी कम मिल रहा है।

क्या कहते हैं कृषि विशेषज्ञ

डाक्‍टर वाईएस परमार नौणी विवि के कृषि विशेषज्ञ डाक्‍टर मनीष शर्मा का कहना है इन दिनों मार्च अप्रैल के माह में लगाया गया टमाटर मंडियों में आ रहा है। अप्रैल माह में काफी अधिक बारिश हुई है। इसी प्रकार मई में भी रुक-रुक कर बारिश होती रही। टमाटर के पौधे को 25 से 30 डिग्री सेल्सियस तक का तापमान चाहिए होता है जो इस वर्ष नहीं मिला। मौसम में आए परिवर्तन का असर टमााटर के उत्पादन पर पड़ा है।

बीते वर्ष हुआ था 300 करोड़ का कारोबार

वर्ष 2020 में किसानों का टमाटर का काफी अच्छा रेट मिला था। लाकडाउन होने के बावजूद मंडी में टमाटर 32 रुपये प्रतिकिलो तक बिका है। ए ग्रेड का टमाटर 70 फीसदी तक था, जबकि बी व सी ग्रेड के टमाटर की मात्रा काफी कम थी। यही वजह रही है कि सोलन मंडी में बीते वर्ष करीब 300 करोड़ रुपये का कारोबार हुआ था।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma