शिमला, राज्य ब्यूरो। Himachal Pradesh Tourism, कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने से प्रदेश में पर्यटन को जोर का झटका लगा है। हालत यह हो चुकी है कि इन दिनों सामान्य तौर पर एक लाख से अधिक पर्यटक प्रदेश में होते थे, लेकिन स्थिति यह है कि इस समय पर्यटकों की संख्या 30 हजार से अधिक नहीं है। शिमला व मनाली में गुजरात सहित दक्षिण भारत के राज्यों के पर्यटक पहुंचे हुए हैं, जो अब वापस लौटने की तैयारी में हैं। पहले क्रिसमस और नववर्ष पर हिमपात नहीं होने से पर्यटक मायूस होकर लौट गए थे। उसके बाद जनवरी के पहले सप्ताह में हिमपात होने से पर्यटक पहुंचे, लेकिन देश के बड़े राज्यों में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर के जोर पकडऩे से पर्यटक आए और बर्फ का आनंद लेकर लौट गए। एक-दो दिन से अधिक समय तक पर्यटक यहां नहीं ठहरे। प्रदेश के होटलों व होम स्टे में 20 से 30 फीसद तक कमरों की बुकिंग रह गई है। पर्यटन विभाग के निदेशक अमित कश्यप का कहना है कि पर्यटकों की संख्या घटी है।

तीन दिन में लिफ्ट की आय घटी

हिमपात होने के बाद राजधानी शिमला की लिफ्ट की दैनिक आमदनी 1.60 लाख रुपये तक पहुंच गई थी। छह हजार पर्यटक एक तरफ लिफ्ट में आ रहे थे। इसी तरह से कार्ट रोड पहुंचने के लिए भी लिफ्ट का उपयोग हो रहा था। दो दिन से लिफ्ट से होने वाली आय 80 हजार के बीच रह गई है। माना जा रहा है कि अब कमाई और कम होगी।

वीकेंड का सहारा

पर्यटन को अब वीकेंड का सहारा रह गया है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच प्रदेश की सैरगाहों में पर्यटकों की आमद बहुत कम रह गई है। हालांकि वीकेंड पर पड़ोसी राज्यों से आने वाले पर्यटकों से होटलों में बुकिंग 30 प्रतिशत तक पहुंच सकती है।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma