शिमला, जागरण संवाददाता। Himachal Pradesh Colleges, प्रदेश में कालेजों, प्रशिक्षण संस्थान, कोचिंग और ट्यूशन सेंटर में सोमवार से चहल-पहल लौट आएगी। कालेजों में नए शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए दाखिलों की प्रक्रिया शुरू होगी। 16 अगस्त से नया सत्र शुरू होगा। प्रशिक्षण संस्थान भी लंबे समय बाद खुलेंगे। सरकार ने इन संस्थानों में आने वाले विद्यार्थियों पर कोविड वैक्सीन लगी होने या आरटीपीसीआर टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट लाने की शर्त लगा दी है। वहीं, हाल व क्लास रूम में सैनिटाइजर की व्यवस्था अनिवार्य है। बिना मास्क कोई भी विद्यार्थी प्रवेश नहीं कर पाएगा। कोचिंग सेंटर संचालकों को निर्देश दिया है कि सीटिंग प्लान इस तरह से तैयार करें कि शारीरिक दूरी के नियम का पालन हो।

शिक्षा विभाग ने विद्यार्थियों को राहत देने के लिए कालेजों में आनलाइन दाखिले की सुविधा भी दी है। यदि कहीं नेटवर्क आदि की दिक्कत है तो कालेज आकर भी दाखिला ले सकते हैं। उच्चतर शिक्षा विभाग के निदेशक डा. अमरजीत शर्मा ने बताया कि यदि आफलाइन दाखिले किसी कालेज में हो रहे हैं तो नियमों का पूरी तरह पालन करना होगा।

अवहेलना करने पर दर्ज होगा मामला

यदि कोई कोचिंग, ट्यूशन सेंटर व प्रशिक्षण संस्थान कोविड नियमों की अवहेलना करता है तो उसके खिलाफ डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट व पुलिस एक्ट के तहत मामला दर्ज होगा।

जूनियर ड्राफ्ट्समैन पदों के लिए 473 ने दी लिखित परीक्षा

हमीरपुर हिमाचल प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग की ओर से रविवार को सुबह के सत्र में स्टैनो टाइपिस्ट और सायंकालीन सत्र में जूनियर ड्राफ्ट्समैन के पदों के लिए लिखित परीक्षा मंडी, शिमला, हमीरपुर और कांगड़ा जोन में बनाए केंद्रों में ली गई। स्टैनो टाइपिस्ट के लिए परीक्षा पोस्ट कोड 870 के तहत ली गई। इस परीक्षा के लिए 2172 अभ्यार्थियो को रोल नंबर जारी किए गए थे। जूनियर ड्राफ्ट््समैन के पदों के लिए पोस्ट कोड 838 के तहत कुल 790 अभ्यार्थियों को रोल नंबर जारी किए गए थे। चार जोन में परीक्षा में 473 परीक्षार्थी ही शामिल हुए।

बाल विद्यालय हमीरपुर की परीक्षा केंद्र अधीक्षक नीना ठाकुर ने बताया कि प्रातकालीन सत्र में 320 अभ्यार्थियों में से 83 अपीयर हुए। वहीं सायंकालीन सत्र में 300 अभ्यार्थियों में से 160 ही अपीयर हुए। वहीं कर्मचारी चयन बोर्ड हमीरपुर के सचिव डा. जितेंद्र कंवर ने बताया कि स्टैनो टाइपिस्ट के लिए 2172 में 906 अभ्यार्थी ही परीक्षा में बैठे।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma