धर्मशाला, दिनेश कटोच। नगर निकाय सहित ग्रामीण संसद के लिए प्रत्याशियों की तस्वीर भी अब लगभग साफ हाे चुकी है। प्रत्याशी सामने हैं। कुछ एक के नाम भी वापिस हाेंगे। लेकिन उनकी संख्या ज्‍यादा नहीं होगी। अब उन्हें अपनी अाेर करने के लिए जोर अजमाइश भी शुरू है। अब नववर्ष पर भी कार्यक्रमों के दौरान कहीं पर आयोजनों के दौरान बधाई भी दी गई। लेकिन मकसद यह भी साफ था कि नववर्ष की बधाई के बहाने अपने साथ लोगों को भी जोड़ा जा सके। हालांकि नगर निकाय व ग्रामीण संसद के चुनाव पार्टी चुनाव चिन्ह पर तो नहीं हैं, लेकिन इन चुनावों को लेकर हर किसी की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है।

हर कोई नेता अपने प्रत्याशियों की जीत के साथ यह भी संदेश देना चाहता है कि उनका ही उम्मीदवार चुनाव जीता है। ऐसे में नववर्ष पर बधाई कार्यक्रमों के दौर में यह संदेश भी दिया गया कि अापका भविष्य सुखद हो और आपकी जीत भी सुनिश्‍‍िचत हो। इसे लेकर यह एक नया शिगूफा भी बधाई के संदेशों को लेकर रहा। लेकिन संदेश यह भी स्पष्ट रहा कि आप आगे बढ़ो और हम आपके साथ हैं।

बधाई संदेश ताे लिए गए हैं कि लेकिन अब यह भी देखना बाकि है कि वह कहां तक उनका साथ देते हैं जो कि अपनों को अपने मान कर चुनावों में जीत को लेकर अपनी प्रतिष्ठा को बचा पाते हैं। अब यह तो परिणाम ही बताएंगे कि नववर्ष की बधाई उनके लिए थी या फिर जीत के बाद पासा पलटकर दूसरी और जाने वाले खेमे के लिए।