मुनीष दीक्षित, बैजनाथ

कोरोना वायरस के बनी आपदा की घड़ी में कई जगह बेशक ठेकेदार या अन्य लोग कामगारों को उनके हाल पर छोड़ रहे हैं, लेकिन बैजनाथ उपमंडल से उम्मीद जगा रही एक अच्छी खबर है। यहां बिहार व पश्चिम बंगाल के 15 मजदूरों के लिए ठेकेदार व बैजनाथ प्रशासन ने मदद का हाथ बढ़ाया है।

रजोट रक्कड़ में ये कामगार बिजली बोर्ड की ओर से जयसिंहपुर के एक ठेकेदार के माध्यम से विद्युत लाइन बदलने के कार्य में लगे थे। इस दौरान लॉकडाउन हो गया। हालांकि उनके पास कुछ खाद्य सामग्री थी, मगर दो दिन पहले यह सामग्री खत्म हो गई व अन्य राज्य के होने के कारण उन्हें दिक्कत आने लगी। ऐसी स्थिति में ठेकेदार अमित चौधरी ने कई माध्यमों से इनको राहत पहुंचाने का प्रयास किया, मगर असफलता ही हाथ लगी। इसके बाद उन्होंने एसडीएम बैजनाथ के समक्ष मामला उठाया और इन्हें रजोट में रहने की व्यवस्था एक स्कूल में करवाई गई। रविवार को ठेकेदार ने इन्हें राशन, गैस व अन्य राहत सामग्री उपलब्ध करवाई। बुजुर्गो को दवा उपलब्ध करवा रहे ये चेहरे

बैजनाथ के एडवोकेट अजय अवस्थी ने आपदा के दौरान क्षेत्र के बुजुर्ग लोगों तक दवाईयां पहुंचाने का बीड़ा उठाया है। उनका कहना है कि कई लोग नियमित दवा खाते हैं। ऐसे लोगों तक वह दवा पहुंचा रहे हैं। इसके अलावा विवेकानंद मेडिकल अस्पताल के फार्मेसी बिग में कार्यरत बैजनाथ के सन्नी कुमार भी कई लोगों के लिए दवा उपलब्ध करवा रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस