कांगड़ा, रितेश ग्रोवर। बेटी को विदा करने के बाद उसके ससुराल में धाम के बाद खुशी-खुशी घर लौट रहे एक परिवार की खुशियों को न जाने किसकी नजर लग गई कि दो दिन में एक परिवार ने दो लोगों को खोया है। रामचंद की बेटी की शादी सोमवार को ही हुई थी अौर सारा परिवार बेटी के घर गया था लेकिन नंदरूल से लौटते समय रानीताल में हादसे का शिकार हो गया। कांगड़ा उपमंडल के रानीताल में हुए सड़क हादसे में सोमवार रात्रि एक घायल महिला ने भी दम तोड़ दिया। इस हादसे में मृतकों की संख्या दो गई जबकि दो अन्य घायलों की हालत भी गंभीर बनी हुई है। मृतक महिला की पहचान निर्मला देवी(68 वर्षीय) पत्नी रणिया राम निवासी फरना के रूप में हुई है। मृतक महिला सोमवार को हादसे में मारे में राम चंद की मां थी जो कि हादसे के दौरान कार के बैठी थी। वहीं हादसे में घायल सुमना देवी(35 वर्षीय) व तिलक राम(40 वर्षीय) अभी टांडा के इमरजंसी वार्ड में दाखिल है जहां उनका इलाज चल रहा है। पंचायत रानीताल के गांव फरना में एक साथ दो मौत होने से गांव में मातक का माहौल है। मां पुत्र का बाथू पूल के नीचे बने श्मशानघाट एक साथ अंतिम संस्कार किया गया जिसमें पंचायत के सैकड़ों लोग शामिल हुए।

चट्टानें न हटाने पर उखड़े क्षेत्र के लोग, विभाग पर जताया रोष

वहीं पंचायत रानीताल के प्रधान प्रवीण बॉबी ने बताया कि पंचायत के लिए दुखद घटना है और इस दुख की घड़ी में पंचायत के सभी लोग पीडित परिवार के साथ हैं। उन्होने बताया कि इस हादसे के बाद अभी तक भी प्रशासन व नेशनल हाइवे ने सड़क के किनारे पड़ी बड़ी चट्टानों को हटाया नही गया है। उन्होने बताया कि सड़क किनारे पड़ी चट्टनों के कारण यह दर्दनाक हादसा सामने आया है। वही इस हादसे पर कांगड़ा प्रशासन मृतक के परिजनों को फैरी तौर पर बीस हजार की सहायता मुहैया करवाई है। कांगड़ा उपमंडलाधिकारी अभिषेक वर्मा ने बताया कि सड़क हादसे में जान गंवाने वाले मां पुत्र के प्रति प्रशासन की संवेदनाएं है। उन्होंने बताया कि पुलिस उपाधिक्षक देहरा को इस हादसे में जांच करने के लिए निर्देश दिए गए हैं।  उन्होंने बताया कि हादसे से स्पष्ट है कि नेशनल हाइवे द्वारा लापरवाही बरती गई है और जांच रिपोर्ट में लापरवाही आती है तो उनके खिलाफ भी मामला दर्ज किया जाएगा।

Edited By: Vijay Bhushan