शिमला, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल में आने वाले लोगों की सुविधा के लिए कोविड ई-पास पोर्टल में पंजीकरण के माध्यम से निगरानी की जाएगी। प्रदेश में प्रवेश करने के इच्छुक सभी लोगों को इस पोर्टल में विवरण दर्ज करना आवश्यक है। पंजीकरण के बाद ही लोगों को प्रदेश में प्रवेश मिलेगा। लोगों के आगमन का विवरण सभी संबंधित हितधारकों के साथ साझा किया जा रहा है।

सोलन जिले के परवाणू में पर्यटक वाहनों का लंबा जाम लगने पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेश सचिवालय शिमला में पत्रकारों से कहा कि ऐसे मामले से दोबारा कोरोना संक्रमण फैल सकता है। इसलिए प्रदेश के सभी जिलों में प्रशासन को अलर्ट कर दिया है कि अनावश्यक भीड़ एकत्र करने वाले लोगों और इस तरह से हजारों वाहनों को प्रवेश देने की व्यवस्था की जाए। पर्यटकों के वाहनों से कोरोना संक्रमण न फैले, इसके लिए प्रशासन को अलर्ट किया गया है। पर्यटकों के लिए कोरोना के आरटीपीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट खत्म होने का मतलब यह नहीं है कि वे संक्रमण से बचाव के उपाय भूल जाएं। प्रदेश में प्रवेश करने वाले पर्यटकों व वाहनों की संख्या नियंत्रित करने के लिए सरकार व प्रशासन व्यवस्था बनाए। पुलिस पर्यटकों से मास्क व शारीरिक दूरी का पालन करवाए।

कोरोना दिशानिर्देश न मानने पर हो सख्त कार्रवाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के दिशानिर्देश का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। पर्यटकों व कारोबारियों को भी सख्त हिदायत दी गई है कि वे कोरोना नियमों का पालन करें नहीं तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें। पर्यटकों का प्रदेश की सैरगाहों में स्वागत है मगर किसी को भी कोरोना संक्रमण के हालात बनाने की इजाजत नहीं दी जाएगी। सार्वजनिक परिवहन सेवा बहाल होने के साथ लोगों को अधिक जिम्मेदारी से काम लेना होगा।

Edited By: Vijay Bhushan