धर्मशाला, जेएनएन। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जनसभाओं में इन्वेस्टर मीट के आधारहीन आंकड़े पेश कर अपनी पीठ थपथपाकर चले गए, लेकिन दो दिन तक उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि दो साल में धर्मशाला के विकास के लिए क्या किया या कौन सी सौगात दी है। मुख्यमंत्री दावा कर रहे हैं कि सरकार ने इन्वेस्टर मीट के लिए 75 हजार करोड़ के एमओयू साइन किए हैं, लेकिन यह झूठ है। भाजपा पुराने  एमओयू को रिन्यू कर जनता को गुमराह कर रही है। यह बात नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने रविवार को धर्मशाला में पत्रकारों से बातचीत में कही।

उन्होंने कहा, सरकार की ओर से दर्शाए गए आंकड़ों में से 60 हजार करोड़ के एमओयू कई साल पहले ही साइन हो चुके थे और अब उन्हें मात्र रिन्यू किया है। प्रदेश सरकार नगर निगम का गला घोंटने का काम कर रही है। विकास के लिए धन उपलब्ध नहीं करवाया जा रहा है। स्मार्ट सिटी का भी कुछ ऐसा ही हाल है।  मुख्यमंत्री ने स्टेडियम और सीयू के शिलान्यास के रूप में अपनी उपलब्धियों का बखान किया। स्टेडियम बीसीसीआइ ने बनाया है और सीयू केंद्र सरकार का प्रोजेक्ट है। अग्निहोत्री ने कहा कि सीएम यह बताएं कि उनकी सरकार ने धर्मशाला के विकास के लिए क्या किया। आरोप लगाया कि आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन कर सीएम कार्यालय स्टाफ से भी प्रचार करवा रहे हैं।

नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाया कि इन्वेस्टर मीट सिर्फ हो हल्ला ही है और इसमें सिर्फ बिल्डरों को बुलाया जा रहा है और प्रदेश को बेचने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन कांग्रेस इसे सफल नहीं होने देगी। इस मौके पर राज्यसभा सदस्य विप्लव ठाकुर, विधायक पवन काजल, प्रदेश कांग्रेस सचिव केवल ङ्क्षसह, महेश्वर चौहान, पूर्व मंत्री ठाकुर कौल सिंह, पूर्व विधायक किशोरी लाल, पीसीसी प्रवक्ता दीपक शर्मा सहित पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस