गगन ठाकुर, थुनाग। CM Jairam Thakur, कांग्रेस नेता मंडी जाते हैं तो कहते हैं कि सिर्फ सराज में काम हुआ और सराज में आते हैं तो कहते हैं कि यहां विकास नहीं हुआ। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने वीरवार को सराज विधानसभा क्षेत्र छतरी में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए यह बात कही। इस मौके पर बीजेपी प्रत्याशी ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर भी मौजूद रहे। मौजूदा चुनाव में कांग्रेस के सहानुभूति कार्ड पर सीएम ने कहा कि वीरभद्र सिंह आज हमारे बीच में नहीं हैं हमें उसका दुख है। जयराम ठाकुर ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, “यदि वो सहानुभूति की बात कर रहे हैं तो हमने भी रामस्वरूप शर्मा को खोया है, लेकिन हमें अब आगे बढ़ने का अवसर मिला है। हमें मुड़कर पीछे नहीं देखना है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस कहती है कि काम नहीं हुए। क्या पहले पांच मुख्यमंत्रियों के कार्यकाल में सभी काम खत्म हो गए। इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी के नोमिनेशन के बाद आयोजित रैली में की गई बातों पर निशाना साधते हुए कहा, मंडी में कांग्रेस के लोगों ने जो मुख्यमंत्री को गाली देने का काम किया है उसके लिए जनता कभी माफ नहीं करेगी।

महंगाई पर बोलते हुए जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काम में लगे हुए हैं और निश्चित रूप से हम महंगाई पर लगाम लगाने में सफल होंगे। कांग्रेस के समय में भी कभी महंगाई खत्म नहीं हुई। कांग्रेस भी 50 साल तक सत्ता में रही। सारी बेरोजगारी और महंगाई बीते तीन साल में ही नहीं आई है।

सराज विधानसभा क्षेत्र में किए गए कार्यों पर सीएम जयराम ठाकुर ने कहा, जब मैं पहली बार विधायक था तो यहां 16 पंचायतों में सड़कें थी। आज सभी 78 पंचायतों में सड़कें हैं। कांग्रेस के लोग एक ही बात कह रहे हैं कि कोरोना आया। क्या कोरोना जयराम ने लाया। हमने कोरोना में भी जनता को बचाने और विकास के काम किए।

इससे बड़ा सौभाग्य हमारे लिए नहीं हो सकता कि जिस व्यक्ति ने कारगिल में विजय हासिल की हो उन्हें हम सांसद बनाकर दिल्ली भेजें। खुशाल ठाकुर को जो भी जिम्मेदारी मिली उन्होंने वह निभाई है।

सीएम जयराम ने फिर से कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस कारगिल युद्ध में देश के सैकड़ों जवानों ने शहादत दी। हिमाचल के 52 जवानों ने अपनी कुर्बानी दी। उस कारगिल युद्ध को छोटा कहना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। हिमाचल छोटा सा राज्य है। लेकिन जब देश पर संकट की बात आती है तो हम आगे बढ़कर सामने करते हैं। उस युद्ध में हमारे सैनिकों ने अपनी कुर्बानी दे दी, लेकिन पीछे मुड़कर नहीं देखा। मैं सभी कारगिल शहीदों को नमन करता हूं।

सराज ने दी थी 37 हजार की बढ़त

देवी-देवताओं और आपके आशीर्वाद से एक सराजी को नेतृत्व करने का मौका मिला है। मैं ये कर्ज कभी नहीं चुका सकता। आपके सहयोग से मुझे विधानसभा में 24 साल पूरे हुए हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में सराज से 37 हजार की बढ़त मिली थी, जो पहले कभी नहीं हुआ था।

बिग्रेडियर ने याद किया पिता का समय

इससे पहले ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर ने कहा कि मेरे पिता चच्योट और करसोग में पटवारी रहे। आते-जाते हुए वो छतरी में रुका करते थे। इस दौरान उन्होंने मगरू को लेकर एक पुरानी कहावत भी सुनाई। उन्होंने कहा कि सराज के छतरी में पर्यटन के लिए कार्य मेरी प्राथमिकता में रहेंगे। आज सराज को प्रधानमंत्री ने भी मान-सम्मान दिया है। हम मिलकर इसे और बढ़ाएंगे। अंत में उन्होंने कहा कि उम्मीद करता हूं छतरी की छाया भी मुझे मिलेगी।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma