धर्मशाला, जागरण संवाददाता। Biometric Machines Attendance in Schools, कोविड-19 प्रोटोकाल के कारण सरकारी दफ्तरों में बायोमीट्रिक मशीनें बंद हैं। इसका सबसे ज्‍यादा फायदा शिक्षा विभाग के अध्यापक ले रहे हैं। बताया जा रहा है कि जब हाथ से हस्ताक्षर करके ही हाजिरी लगनी है तो एक ही वक्त में दो वक्त की हाजिरी भरी जा रही है। जिसे देखने के लिए मुखिया भी आंखें मूंदे बैठे हैं। अब ऐसे में शिक्षा विभाग के उपनिदेशक इंस्पेक्शन के ध्यान में यह बात तब आई है। उन्होंने 115 स्‍कूलों का औचक निरीक्षण किया, इसमें कोताही की बात सामने आई है।

वहीं बताया जा रहा है कि उपनिदेशक इंस्पेक्शन की अगुवाई में बीते दो माह में 115 के करीब औचक निरीक्षण हो चुके हैं। अक्टूबर महीने में 45 और नवंबर में करीब 70 स्कूलों का निरीक्षण किया गया है। इसमें पाया गया है। 30 फीसद अध्यापक रजिस्टर में एक ही समय हाजिरी लगा रहे हैं। कुछ अध्यापकों को छुट्टी लेनी होगी तो वह फोन पर ही आपातस्थिति का हवाला देकर प्रिंसिपल से छुट्टी की बात कर रहे हैं। उसी आधार पर प्रिंसिपल छुट्टी दे रहे हैं।

जबकि नियमों के तहत छुट्टी से पहले स्कूल में लिखित पत्र देना पड़ता है। लेकिन कुछ मामलों में ऐसा नहीं हो रहा है। अब औचक निरीक्षण करने का शेड्यूल तय कर लिया है। ऐसे में अब जहां पर अनियमितता पाई जाती है ऐसे अध्यापक व स्टाफ पर गाज गिर सकती है।

यह बोले उपनिदेशक निरीक्षण

उपनिदेशक निरीक्षण शिक्षा विभाग कांगड़ा प्रकाश चंद सुकेतिया ने बताया कि पिछले दो माह में स्कूलों का निरीक्षण किया है। कई अध्‍यापक रजिस्टर में एक समय ही हाजिरी लगा रहे हैं। हाजिरी दिन में दो बार लगानी चाहिए। अगर अध्यापक को छुट्टी चाहिए तो वह लिखित में अर्जी दे सकता है। कुछ मामलों में स्कूल प्रभारी से भी जवाब मांगा गया है।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma