धर्मशाला, जेएनएन। ट्रिब्यूनल बार एसोसिएशन सर्किट धर्मशाला के प्रधान टेक चंद राणा ने कहा कि सरकार ने ट्रिब्यूनल को भंग करने का निर्णय जल्दबाजी में लिया है। कर्मचारियों के मामलों का ट्रिब्यूनल बेहतर ढंग से निपटारा कर रहा था, जबकि हाईकोर्ट में ऐसे मामलों में समय लगता है। ऐसे में प्रशासनिक ट्रिब्यूनल को बहाल रखा जाना चाहिए। इसमें ही प्रदेश और कर्मचारी वर्ग की भलाई है। पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने सरकार से मांग उठाई कि इस पर पुनर्विचार किया जाए।

यदि सरकार इस पर पुनर्विचार या इसे बहाल नहीं करती है तो विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मंडी व शिमला में बकायदा इस संबंध में बैठकों का भी आयोजन हो चुका है। शिमला बार एसोसिएशन जल्द ही मुख्यमंत्री से भी मिलने जा रहा है, ताकि ट्रिब्यूनल को बहाल रखा जाए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में मिलकर रणनीति बनाई जाएगी, ताकि सरकार नहीं मानती है तो किस प्रकार रोष प्रदर्शन किया जा सकता है। इस अवसर पर अधिवक्ता वरुण शर्मा, अंकित शर्मा, संजय बरसैण, विनोद कुमार भी मौजूद रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस