नगरोटा बगवां, संवाद सहयोगी। जोनल पशु चिकित्सालय नगरोटा बगवां द्वारा मंगलवार को ब्लॉक समिति हॉल में विश्व रेबीज दिवस के मौके पर जागरूकता शिविर आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में एसडीएम शशिपाल नेगी ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की तथा पालतू कुत्तों के लिए मुफ्त एंटी रेबीज टीकाकरण का शुभारंभ किया। वरिष्ठ पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ मुकुल कायस्था ने कहा कि सबसे अच्छा दोस्त घातक दुश्मन में बदल सकता है। रेबीज के 99 प्रतिशत मामले पागल कुत्तों के काटने से होते हैं। रेबीज यदि 100 प्रतिशत घातक है परंतु साथ ही 100 प्रतिशत बचाव भी संभव है।

पागल कुत्ते या जानवर के काट लेने के पश्चात रोगी का जीवन तभी बचाया जा सकता है यदि जल्द से जल्द हस्पताल में पहुंचकर टीकाकरण करवाया जाए। 0-3-7-14-28-90वे दिन इंजेक्शन लगवाना अति आवश्यक है। कुत्ते के काटने के पश्चात चलते हुए पानी से घाव को धोने के पश्चात तुरंत अस्पताल में पहुंचकर डॉक्टर से संपर्क साधना आवश्यक है। अंतर्राष्ट्रीय रेबीज दिवस मनाए जाने का उद्देश्य 2030 तक रेबीज़ से जो मनुष्य की मृत्यु हो जाती है उसे समाप्त किया जाए। इस दिशा में जागरूकता शिविर का आयोजन किया जाना अति आवश्यक है। रेबीज़ से होने वाली मौतों को रोका जा सकता है इसलिए पालतू कुत्तों का समय पर टीकाकरण अवश्य करवाएं।

कूड़ा करकट को खुले स्थानों पर ना फेंका जाए क्योंकि यह कुत्तों को आकर्षित करता है। जानवर अथवा कुत्ते के काटने या खरोंच को कभी भी उपेक्षित ना करें और ना ही इसे लापरवाही से लें। रेबीज़ का कोई इलाज नहीं है टीकाकरण ही प्रभावी उपाय है। इस मौके पर पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ सर्वेश गुप्ता, खंड स्वास्थ्य अधिकारी डॉ संजय भारद्वाज ,डॉक्टर संजीव, डॉक्टर शमा राणा ,डॉ गौरव महाजन, बीडीसी चेयरमैन अंजना कुमारी, नगर परिषद उप प्रधान नवयोग भारद्वाज, पार्षद स्वर्णा वालिया ,डॉक्टर शिखा शर्मा ,डॉक्टर कुणाल, डॉक्टर योगेश ,विभिन्न स्कूलों के प्रधानाचार्य एवं विद्यार्थी मौजूद रहे

Edited By: Richa Rana