नाहन, जागरण संवाददाता। नाहन उपमंडल के धगेड़ा ब्लाक में कार्यरत आशा कार्यकर्ताओं ने काम करना छोड़ दिया है। उनका कहना है कि फरवरी माह से उनका मानदेय तक नहीं दिया गया है। इंसेंटिव के लिए हर बार भीख मांगनी पड़ रही है। आशा कार्यकर्ताओं का कहना है कि यदि उनका मानदेय और दूसरे लाभ जल्द नहीं दिए, तो वह सभी सड़कों पर उतरने के लिए विवश होंगी। मानदेय की मांग को लेकर धगेड़ा ब्लाक की आशा कार्यकर्ताओं का एक प्रतिनिधिमंडल उपायुक्त राम कुमार गौतम से मिला और उनको ज्ञापन दिया।

प्रतिनिधिमंडल में शामिल ब्लाक प्रधान किरण बाला, मीना शर्मा, दीपा चौहान, उदेश शर्मा, शबीना बानो, ललिता, कुसुम, नीरू, निशा, शमीनाज, अनीता, अनीता शर्मा, ललिता, हरविंद्र, मनु, प्रीतमा, शमीम आदि दर्जनों आशा कार्यकर्ताओं ने कहा कि वह अपना कार्य पूरी ईमानदारी से कर रही हैं। इसके बाद भी फरवरी माह से उनका मानदेय नहीं दिया गया है। जिससे घर चलाने में दिक्कते हो रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में दी सेवाओं का लाभ भी उनको नहीं दिया गया। मानदेय के साथ-साथ इंसेंटिव भी नहीं दिया जा रहा है। इंसेंटिव के लिए हर बार भीख ही मांगनी पड़ रही है। मानदेय मांगे तो बजट न होने का बहाना बना दिया जाता है। आशा कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी कि यदि जल्द उनका मानदेय व इंसेंटिव नहीं दिया गया वह सड़कों पर उतरने से भी गुरेज नहीं करेंगी।

Edited By: Richa Rana