संवाद सहयोगी, पालमपुर : भारत सरकार की एनक्यूएएस (नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड) योजना के तहत शुक्रवार को राज्य गुणवत्ता आकलन कमेटी ने सिविल अस्पताल पालमपुर का दौरा किया। तीन सदस्यीय टीम में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. सुनीता ए गंजू, ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर गोपालपुर डॉ. अनुराधा सूद तथा क्वालिटी कंसल्टेंट डॉ. विधि तोवर शामिल रहीं।

कमेटी दो दिन में सिविल अस्पताल पालमपुर की हर गतिविधि का आकलन करके केंद्र सरकार को रिपोर्ट भेजेगी। एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. सुनीता ए गंजू ने बताया कि यदि अस्पताल को 100 में से 70 अंक भी प्राप्त होते हैं तो अस्पताल को भारत सरकार की इस योजना में क्वालीफाई माना जाएगा। इसके उपरांत अस्पताल को भारत सरकार की ओर से 50 लाख रुपये का नकद पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।

राष्ट्रीय गुणवत्ता आकलन मानकों को सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ-साथ वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं के लिए विशिष्ट आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर विकसित किया गया है। एनक्यूएएस सुविधा वर्तमान में जिला अस्पतालों, सीएचसी, पीएचसी और शहरी पीएचसी के लिए उपलब्ध है। वहीं पूर्व निर्धारित मानकों के माध्यम से सुधार के लिए स्वयं की गुणवत्ता का आकलन करने और प्रमाणन के लिए सुविधाओं को पाने के लिए यह मानक मुख्य रूप से प्रदाताओं के लिए बना है।

इस मौके पर सिविल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विजय महाजन ने टीम को अस्पताल की गतिविधियों बारे जानकारी मुहैया करवाई। उन्होंने बताया कि सिविल अस्पताल पालमपुर को इससे पहले भी भारत सरकार की कायाकल्प योजना के तहत केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा से 20 लाख रुपये का नकद इनाम मिला था। आकलन टीम ने इस दौरान क्षेत्र के विभिन्न बुद्धिजीवी लोगों के साथ भी सिविल अस्पताल पालमपुर की कार्यप्रणाली एवं सुविधाओं के बारे में चर्चा की। इसमें रोगी कल्याण समिति के नामित सदस्य जितेंद्र बंटा, सुदर्शन वासुदेवा, नगर परिषद अध्यक्ष राधा सूद, नोडल ऑफिसर डॉ. केएल कपूर, संजीव बाघला, इनरव्हील क्लब सचिव अनु गोयल, नीतिका जम्वाल, नीरजा कटोच, प्रोमिला नारंग, समाजसेवी धर्मेंद्र गोयल, पूर्व नगर पार्षद विकास वासुदेवा, डॉ. दीपिका, गीतेश भृगु, रक्तदाता प्रशांत महाजन आदि शामिल रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप