जागरण संवाददाता, नगरोटा बगवा : नगरोटा बगवा के एसडीएम अंकुश शर्मा की पत्‍‌नी रश्मि शर्मा द्वारा लोक निर्माण विभाग के जेई एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाए जाने के आधार पर बुधवार को उन्हें पुलिस थाना में तलब कर पूछताछ की गई। वहीं दूसरी ओर मंगलवार देर शाम तक समझौते की कोशिशें की गई, लेकिन सभी कोशिशें विफल होने के बाद पुलिस विभाग द्वारा अगली कार्रवाई अंजाम में लाई है। इस मामले के मद्देनजर दोनों ही विभागों से संबंधित यूनियनें आमने-सामने आ गई हैं। जिला इंटक तथा जूनियर इंजीनियर एसोसिएशन ने शिकायत को आधारहीन करार देते हुए इस मामले को पुलिस थाना से वापस लेने की माग की है। जिला इंटक अध्यक्ष रमेश सैनी तथा जूनियर इंजीनियर एसोसिएशन के जिला प्रधान संजय सूद ने जिला प्रशासन से इस मामले में हस्तक्षेप करने की गुहार लगाई है। लोक निर्माण विभाग के गैंग हट को तुरंत खाली करने की भी बात कही है। इस गैंग हट को यदि शीघ्र ही खाली नहीं किया जाता तो धरना-प्रदर्शन करने पर मजबूर होना पड़ेगा, जिसकी जिम्मेदारी प्रशासन पर होगी। दूसरी ओर, उपायुक्त कार्यालय कर्मचारी संघ ने एसडीएम की पत्‍‌नी से हुए दु‌र्व्यवहार की कड़ी निंदा की है। पटवार एवं कानूनगो संघ नगरोटा बगवा के प्रधान सरजीवन कुमार तथा उपमंडलस्तरीय उपायुक्त कार्यालय संघ के प्रधान निर्मल सिंह ने कहा कि नया उपमंडल कार्यालय स्थापित होने के कारण जब तक सरकारी आवास की व्यवस्था नहीं हो जाती तब तक इस गैंग हट में रहने का पूर्ण रूप से हक है। एसडीएम समस्त उपमंडल के अधिकारी हैं। लोक निर्माण विभाग द्वारा इस गैंग हट को निजी संपत्ति समझ लेना नियमों के विरुद्ध है। किसी भी प्रकार का दु‌र्व्यवहार सहन नहीं किया जाएगा।

Posted By: Jagran