डाडासीबा, जेएनएन। मांगों के समर्थन में आशा वर्कर्स अब आंदोलन शुरू करेंगी। गरली में बुधवार को आयोजित बैठक में प्रदेश आशा कार्यकर्ता महासंघ की जिला सचिव शशिलता ने बताया कि केंद्र सरकार के बजट में आशा वर्कर्स को उम्मीद थी कि मांगों को पूरा किया जाएगा, लेकिन एक भी मांग को पूरा न कर सौतेला व्यवहार किया है। अब प्रदेशभर की आशा वर्कर्स को हिमाचल के बजट पर उम्मीद है कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर उनके हित में फैसला लेंगे अगर अनदेखी हुई तो मजबूरन आंदोलन करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। साथ ही चेतावनी दी है कि शिमला में विधानसभा भवन के बाहर प्रदर्शन किया जाएगा।

उन्होंने मांग की है कि सभी प्रकार की स्टेशनरी देने, सेवा अवधि के दौरान किसी भी प्रकार की मृत्यु अथवा अपाहिज होने की दशा में दुर्घटना बीमा योजना के अंतर्गत उनके आश्रित को एक मुश्त पांच लाख की अनुग्रह राशि प्रदान करने या उसके परिवार में संबंधित पात्र सदस्य को नियुक्त करने सहित प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन लाभार्थी प्रवेश 18 से प्रवेश आयु 40 से 60 वर्ष करने की मांग उठाई है।

ये हैं मांगें

  • सरकारी कर्मचारी घोषित किया जाए।
  • न्यूनतम मानदेय 18000 किया जाए।
  • प्रोत्साहन राशि हर महीने समय पर दी जाए।
  • प्रधानमंत्री मात्री शिशु योजना के तहत दी जाने वाली राशि बहाल की जाए।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस