संवाद सहयोगी, पालमपुर : डॉ. जीसी नेगी पशु चिकित्सा और पशु विज्ञान कॉलेज कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर में एमएससी व पीएचडी किए जाने के विषय कम करने पर एबीवीपी ने मोर्चा खोल दिया है और करीब 250 विद्यार्थियों ने मुख्यमंत्री को पत्र लिख इन विषयों को बहाल करने की मांग उठाई है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रांत सह मंत्री राहुल शर्मा के मुताबिक पिछले तीन साल में विश्वविद्यालय प्रशासन ने कई विषयों पर एमएससी और पीएचडी बंद कर दी है। उन्होंने कहा कि विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है और एग्रीकल्चर सेक्टर को देश की अर्थव्यवस्था सही करने के लिए संजीवनी माना जा रहा है, वहीं दूसरी ओर इस तरह स्नातकोत्तर और पीएचडी की सीटें कम करना कहीं न कहीं उन विद्यार्थियों के साथ अन्याय हैं जो कृषि और पशु चिकित्सा में आगे जाना चाहते हैं और अपना करियर बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा ही चलता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब सारे विषयों और डिपार्टमेंट को बंद करना पड़ेगा और एक दिन विश्वविद्यालय ही बंद हो जाएगा। उन्होंने जानकारी दी कि कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर के विभिन्न कॉलेजों के विद्यार्थियों ने और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री को ईमेल के माध्यम से पत्र भेज कर विश्वविद्यालय में कम हो रहे विषयों के बारे और विश्वविद्यालय प्रशासन के नकारात्मक रवैये के बारे में जानकारी दी है। और उनसे गुहार लगाई है कि वह छात्रों की शिकायतों को देखें और उन्हें कम करें, क्योंकि यह उन छात्रों के पक्ष में होगा जो राज्य और राष्ट्र की आशा और भविष्य हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस