संवाद सहयोगी, चुवाड़ी : भटियात विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत तारागढ़ के करीब छह गांवों को जोड़ने वाले जाजड़ी पुल की हालत खस्ता है। आलम यह कि वाहन तो दूर, यहां से पैदल गुजरना भी खतरे से खाली नहीं है। जरा सी चूक जान पर भारी पड़ सकती है। हालांकि इस मामले में अब लोक निर्माण विभाग संबंधित ठेकेदार को नोटिस जारी करने की बात कह रहा है।

इस पुल का निर्माण वर्ष 1997 में लोक निर्माण ने ठेकेदार के माध्यम से करवाया था। जिस समय पुल का निर्माण करवाया गया था, उस वक्त यहां पर कोलतार भी बिछाई गई थी। ऐसे में जीप योग्य इस पुल से वाहन भी गुजरते थे। इससे जाजड़ी, तारागढ, बैरियां, बैला व बाही का बाग गांव के लोगों के अलावा पूरी तारागढ़ पंचायत के लोग लाभान्वित होते हैं। वर्तमान समय में यह पुल खस्ताहाल हो चुका है। इसकी मरम्मत के लिए तीन साल पहले बजट आया था तथा लोक निर्माण ने ठेकेदार के माध्यम से इसकी मरम्मत करवाई थी।

स्थानीय निवासी अशोक, नागेश, सुमेश, सुभाष, भाग सिंह, तिलक राज, अमीं चंद, करनैल, विशंभर, राजीव, गौरव तथा गुलशन ने विभाग पर आरोप लगाते हुए कहा कि इस पुल पर लोहे की चार शीट बिछाई गई थीं, जिसे ठेकेदार ने उखाड़ कर पुरानी टीन की दो ही शीटें बिछाई हैं जोकि मानकों के खिलाफ है।

स्थानीय लोगों का आरोप है यह सारा धंधा लोक निर्माण विभाग की नाक के नीचे होता रहा और विभाग ने कोई कार्रवाई नहीं की। ठेकेदार को इस पुल का काम बंद किए काफी अरसा हो चुका है और लोहे की अधिकतर शीटें तेज हवा से उड़ गई हैं। पुल के टूटे हुए हिस्से पर राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। उखड़ी हुई टीन की शीट से किसी भी समय कोई अप्रिय घटना घटित हो सकती है।

उधर तारागढ़ पंचायत के प्रधान ने बताया कि अगर इस समस्या का समाधान विभाग जल्द नहीं करेगा तो पंचायत के लोग जल्द ही चक्काजाम करेंगे, जिसके लिए विभाग जिम्मेदार होगा। वहीं इस संदर्भ में लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता नरेंद्र चौधरी ने बताया कि ठेकेदार को पुल की मरम्मत करने के निर्देश दे दिए हैं।

Edited By: Jagran