Move to Jagran APP

हिलुटवां में बादल फटा, भूस्खलन व डंगे गिरने से 45 मार्ग बंद

जिला चंबा में बारिश कहर बरपाने लगी है।

By JagranEdited By: Published: Wed, 28 Jul 2021 08:39 PM (IST)Updated: Wed, 28 Jul 2021 08:39 PM (IST)
हिलुटवां में बादल फटा, भूस्खलन व डंगे गिरने से 45 मार्ग बंद

जागरण टीम, चंबा/चनेड़/होली : जिला चंबा में बारिश कहर बरपाने लगी है। मंगलवार शाम से बुधवार तक जिला के विभिन्न क्षेत्रों में बारिश ने लोगों को आफत में डाल दिया है। जिले में नदी नाले व खड्डें उफान पर हैं। पांगी मुख्यालय किलाड़ से करीब 45 किलोमीटर दूर हिलुटवां में बादल फटने से जम्मू नाले में बाढ़ आ गई। रिकार्ड तोड़ बारिश के कारण हुए भूस्खलन, पहाड़ी दरकने व डंगे गिरने से चंबा जिला में 45 मार्ग बंद रहे। जिले में विभिन्न स्थानों पर भूस्खलन, पहाड़ी दरकने व पत्थर गिरने का खतरा बरकरार है।

loksabha election banner

मार्ग बंद रहने के कारण वाहनों की आवाजाही ठप रही। ऐसे में कर्मचारियों और जरूरी कार्य के लिए घर से निकले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। चंबा-खजियार-जोत मार्ग विभिन्न स्थानों पर भूस्खलन होने से पूरी तरह बाधित रहा। इसके अलावा चंबा-तीसा-बैरागढ़, सनवाल, चांजू, जसौरगढ़, चंबा-सलूणी-भेड़ेला, हिमगिरी, लंगेरा, चंबा-कैथली, जुम्महार व चंबा, भरमौर व होली, चंबा-रठियार मार्गो पर जगह-जगह भूस्खलन होने से यातायात प्रभावित रहा। चंबा-पठानकोट राष्ट्रीय राजमार्ग भी भूस्खलन के कारण चनेड़ नाला व भट्टी नाला में बंद रहा। करीब नौ घंटे बाद बुधवार दोपहर लोक निर्माण विभाग ने इस मार्ग को वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया। इसके अलावा अन्य बंद मार्गो को खोलने के लिए कार्य जारी है। विभाग के अनुसार सबसे अधिक 15 सड़कें तीसा में बंद रहीं। डलहौजी व चंबा में सात-सात और सलूणी व भरमौर में पांच-पांच मार्ग भूस्खलन व पहाड़ी दरकने से बंद हो गए। लोक निर्माण विभाग को एक दिन में करीब सात करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

------------- घरों में भरा पानी, फसलों को भी नुकसान

चंबा में बरसे बादलों के कारण विभिन्न स्थानों पर घरों में पानी भरने के अलावा फसलों को भी नुकसान पहुंचा। चुराह व सलूणी क्षेत्रों में कई स्थानों पर मक्की की फसल पूरी तरह जमीन पर बिछ गई है। इससे किसानों को काफी नुकसान हुआ है। मौसम के तेवर अब तक तीखे बने हुए हैं। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार वीरवार को भी चंबा सहित विभिन्न क्षेत्रों में भारी बारिश होने की संभावना है।

------------ बारिश के कारण हुए भूस्खलन व पहाड़ी दरकने से चंबा जिला में 45 मार्ग बंद हैं। इन मार्गो को खोलने के लिए बारिश के बीच भी काम जारी है। जल्द ही सभी मार्गो को वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया जाएगा।

दिवाकर पठानिया अधीक्षण अभियंता, लोक निर्माण विभाग, डलहौजी सर्किल

------------ एचआरटीसी के 22 रूट प्रभावित

बारिश के करण विभिन्न स्थानों पर हुए भूस्खलन व पहाड़ी दकरने के कारण सड़कें बंद होने से हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) चंबा के 22 रूट प्रभावित हुए हैं। चंबा बैरागढ़, चंबा भड़ेला, कैथली, खजियार, झुमार, होली सहित कई अन्य रूट पर बसें नहीं चल पाई। इसके अलावा अन्य रूट की बसें भी सही रूट पर नहीं चल पाई हैं। बुधवार सुबह चंबा पहुंचने वाली कई बसें दो तीन घंटे देर से चंबा पहुंचीं। वहीं, सुबह के समय चंबा से रूट पर निकली बसें भी मार्ग बंद होने से आधे रास्ते तक ही पहुंच पाई। इससे निगम प्रबंधन को भी काफी नुकसान उठाना पड़ा है। सरकारी बसों के अलावा करीब 24 निजी बस सेवा भी प्रभावित हुई। क्षेत्रीय प्रबंधक चंबा राजन जंवाल ने कहा कि बारिश के कारण सड़कें बंद होने से निगम के करीब 22 रूट प्रभावित हुए हैं।

----------- थाना-चौकियों के प्रभारी हाई अलर्ट पर, हेल्पलाइन नंबर जारी

उपायुक्त डीसी राणा ने बताया कि मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार 28 व 29 जुलाई को चंबा जिले में भारी बारिश होने की संभावना है। जिले में कुछ स्थानों पर बाढ़ व बादल फटने की घटनाएं और बिजली गिरने की संभावना से जनजीवन प्रभावित हो सकता है। उन्होंने लोगों से इस दौरान सावधानी बरतने को कहा है।

उपायुक्त ने बताया कि हेल्पलाइन नंबर जारी करने के अलावा सभी थानों व चौकियों के प्रभारियों को आपदा प्रबंधन में सहायक उपकरणों के साथ हाई अलर्ट पर रखा गया है। मौसम विभाग द्वारा जारी चेतावनी के मद्देनजर जिले में आपदा प्रबंधन प्राधिकरण से संबंधित सभी अधिकारियों को आपसी सहयोग व तालमेल बनाने के निर्देश जारी किए गए हैं। उपायुक्त ने जिले के सभी एसडीएम को उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पर्यटकों की आवाजाही प्रतिबंधित करने के निर्देश दिए हैं। भारी बारिश की संभावना के कारण उपायुक्त ने सभी एसडीएम, कार्यालय अध्यक्ष, थानों व चौकी प्रभारियों से नदियों, सहायक नदियों और मौसमी नालों में जल प्रवाह पर विशेष निगरानी रखने को कहा है। उन्होंने लोक निर्माण विभाग व राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों को बाधित मार्गों में प्राथमिकता के आधार पर व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। उपायुक्त डीसी राणा ने आपदा या दुर्घटना की सूचना तत्काल आपदा प्रबंधन के दूरभाष नंबर 01899226950 और टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1077 व 1070 और वाट्सएप नंबर 9816698166 पर देने के निर्देश दिए हैं।

------------------

बादल फटने से खेत, फसल व पुल बहे

संवाद सहयोगी, पांगी : हिलुटवां में बादल फटने से जम्मू नाले में आई बाढ़ के कारण नाले के साथ व निचली तरफ लगते खेतों सहित बोई गई फसल बह गई। इससे किसानों को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। बादल फटने के बाद उपमंडल अधिकारी रजनीश शर्मा घटनास्थल के लिए रवाना हो गए तथा नुकसान का जायजा लिया।

हालांकि राहत की बात यह है कि बादल फटने के कारण किसी प्रकार के जानी नुकसान की कोई सूचना नहीं है। पांगी की ग्राम पंचायत शून के हिलुटवां में स्थित जम्मू नाले में मंगलवार रात को बादल फटने से बाढ़ आने से हिल्लु, कालीछो, चुरोटी और टवान के किसानों के खेत, जमीनें व फसल बह गई। पांगी प्रशासन को जैसे ही घटना की जानकारी मिली तो अधिकारी बचाव दल के साथ घटनास्थल के लिए रवाना हो गए। बादल फटने के बाद सैचुनाला उफान पर है। ऐसे में नाले के दोनों छोर पर बसी बस्तियों सैचु, चलासरी, हडून परहोली के लोगों की जमीनों को भी खतरा बना हुआ है। नाले का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है। जम्मू और तुरुंड नालों पर बने पुलों के बह जाने से टवान गांव का संपर्क भी समस्त पांगी से कट गया है। शीधानी नाले में भी बाढ़ आने से ग्राम पंचायत सैचु के मोझी बार्ड का संपर्क अपनी पंचायत मुख्यालय से कट गया। सितंबर 1999 में भी जम्मू नाले में बादल फटने से बाढ़ आने के कारण दो करोड़ रुपये की संपत्ति का नुकसान हुआ था। उस दौरान आइटीबीपी का एक जवान भी बह गया था।

----------- बादल फटने की जानकारी मिलते ही उपमंडलाधिकारी टीम के साथ घटनास्थल पर गए। आकलन करने के बाद ही तस्वीर साफ होगी कि कितना नुकसान हुआ है। प्रभावित परिवारों को तुरंत राहत राशि सहित जरूरी सहायता प्रदान की जाएगी। लोग बारिश के मौसम में घर से बाहर न निकलें। ऐसा करके वे सुरक्षित रहेंगे।

बलवान चंद, आवासीय आयुक्त पांगी

-------- कार पर गिरा मलबा, परिवार के चार सदस्य सुरक्षित

जागरण टीम, बकलोह/चुवाड़ी : लाहडू-ककीरा मार्ग पर बुधवार सुबह नूरपुर से चंबा जा रही एक कार पर घटासनी पुल के पास पहाड़ी दरकने से मलबा आ गिरा। कार में सरकारी बैंक चंबा में कार्यरत अधिकारी परिवार सहित चंबा जा रहे थे। गनीमत यह रही कि कार में सवार परिवार के चारों सदस्य सुरक्षित हैं। बैंक अधिकारी को मामूली चोटें आई हैं। निजी क्लीनिक में उपचार के बाद वह दूसरे वाहन से चंबा रवाना हो गए। लाहडू के स्वंयसेवी सुरेश शर्मा ने बताया कि उन्हें जैसे ही इस हादसे की जानकारी मिली तो वह घटनास्थल के लिए रवाना हो गए व गाड़ी को रास्ते से हटाकर किनारे में खड़ा किया। इसके बाद अपने वाहन से उन्हें लाहडू चौक पर लेकर आए व उनका प्राथमिक उपचार करवाया और चंबा भेजा। उधर, चुवाड़ी-लाहडू मार्ग पर सुबह नागनू नाले के समीप मलबा गिरने से लाहडू-चुवाडी मार्ग करीब चार घंटे बाधित रहा। यह मार्ग लोगों की आवाजाही के लिए करीब 10 बजे बहाल कर दिया गया। लोक निर्माण विभाग के कनिष्ठ अभियंता कमल अहीर ने बताया कि रायपुर फगोट वाया चेली मार्ग बंद है जिसे यातायात के लिए जल्द बहाल कर दिया जाएगा।

------------

चनेड़ में नाले में बहे जेसीबी हेल्पर का शव बरामद

संवाद सहयोगी, चनेड़ : चंबा-पठानकोट राष्ट्रीय राजमार्ग पर चनेड़ नाला में मंगलवार देर रात भारी मात्रा में आए पानी के तेज बहाव में बहे जेसीबी हेल्पर का बुधवार को शव बरामद हो गया है। मृतक की पहचान सुनील कुमार पुत्र भीखो राम निवासी गांव सिढ़कुंड के रूप में हुई है।

मंगलवार देर शाम जेसीबी हेल्पर सुनील कुमार व आपरेटर अनू कुमार पुत्र फकीर चंद निवासी तरेला (तीसा) के साथ दुकान गया था। दुकान पर सामान खरीदने के बाद ये दोनों वापस क्वार्टर की ओर लौट रहे थे। जब वे नाला पार करने लगे तो अचानक तेज बारिश के बीच जलस्तर एकदम बढ़ गया। जलस्तर बढ़ने के कारण नाला पार कर रहा सुनील कुमार तेज बहाव के साथ ही बह गया। आपरेटर पानी की चपेट में आने से बाल-बाल बचा। हेल्पर के नाले में बहने के बाद वहां मौजूद वाहन चालकों द्वारा इसकी सूचना पुलिस व प्रशासन को दी गई और अपने स्तर पर तलाशी अभियान शुरू कर दिया था। कुछ ही देर में पुलिस की टीम भी घटनास्थल पर पहुंच गई तथा हेल्पर को खोजने के लिए अभियान तेज किया गया। देर रात तक उसका कोई भी सुराग नहीं लग पाया था। रात को बारिश जारी रहने तथा अंधेरा होने के कारण तलाशी अभियान बंद करना पड़ा। बुधवार सुबह पुलिस ने फिर स्थानीय लोगों के साथ मिलकर तलाशी अभियान तेज किया। शव को नाले से दोपहर करीब 11 बजे बरामद कर लिया गया। इसके बाद मेडिकल कालेज चंबा में पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। उधर, सदर थाना प्रभारी सकीनी कपूर का कहना है कि सूचना मिलने के उपरांत सर्च अभियान शुरू कर दिया गया था। बुधवार दोपहर शव को नाले से बरामद कर लिया गया।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.