जागरण संवाददाता, चंबा : कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए समाज का हर वर्ग सरकार को मदद देने के लिए आगे आ रहा है। खेतों में पसीना बहाकर देश के लिए अन्न पैदा करने वाला किसान भी संकट की इस घड़ी में अपनी भागीदारी निभा रहा है। चंबा जिले के घरमाणी गांव के किसान ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 12 हजार रुपये का योगदान देकर मिसाल पेश की है।

घरमाणी गांव के ज्ञानचंद कोई बहुत बड़े किसान तो नहीं हैं, लेकिन इनके जज्बे के आगे कई धनाढ्य लोग फीके साबित हो सकते हैं। घरमाणी गांव के बेहमी राम के पुत्र ज्ञानचंद ने शुक्रवार को अपनी मेहनत की कमाई में से 12 हजार रुपये का अंशदान मुख्यमंत्री कोविड-19 रिलीफ फंड के लिए उपायुक्त एवं जिला मजिस्ट्रेट विवेक भाटिया के माध्यम से किया। उपायुक्त ने भी ज्ञानचंद के जज्बे को सलाम करते हुए न केवल उसे प्रशंसा पत्र से नवाजा बल्कि स्मृतिचिन्ह भेंट कर सम्मानित भी किया। उपायुक्त ने कहा कि किसान ज्ञानचंद ने संकट की इस घड़ी में जो मिसाल पेश की है वह मानवता की निस्वार्थ सेवा का अनुकरणीय उदाहरण है। उन्होंने कहा कि न केवल जिला प्रशासन बल्कि वे स्वयं व्यक्तिगत तौर पर ज्ञानचंद की भावना की दिल से कद्र करते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस