संवाद सहयोगी, डलहौजी : नववर्ष के पहले दिन शनिवार को भद्रकाली भलेई माता मंदिर में 700 भक्तों ने कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए मां भलेई के दर्शन कर सुख-समृद्धि व विश्व शांति की कामना की। मंदिर प्रबंधक समिति के अध्यक्ष कमल ठाकुर ने मां भद्रकाली की विशेष पूजा व कन्या पूजन कर विश्व शांति, कोरोना से मुक्ति व वैष्णो माता मंदिर जम्मू में भगदड़ में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। 31 दिसंबर की रात वैष्णो माता मंदिर में भगदड़ के बाद शनिवार सुबह भलेई माता मंदिर में भक्तों की भीड़ नियंत्रित करने के लिए मंदिर प्रबंधक समिति ने विशेष प्रबंध किए थे।

मंदिर प्रबंधक समिति के अध्यक्ष ने कहा कि हर वर्ष नववर्ष के पहले दिन भलेई माता मंदिर में सैकड़ों भक्त शीश नवाने के लिए पहुंचते हैं। उनकी सुविधा व सुरक्षा के लिए समिति पहले से ही तैयार रहती है। मंदिर परिसर में अधिक भीड़ न हो और न ही भगदड़ मचे, इसके लिए समिति के सदस्यों ने बेहतर सेवाएं दी। कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन से बचाव के लिए मंदिर परिसर में कोविड प्रोटोकाल का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया गया। भक्तों के हाथ सैनिटाइज करने के लिए पर्याप्त स्थानों पर सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है। जो भक्त बिना मास्क मंदिर परिसर में पहुंच रहे हैं उन्हें मंदिर प्रबंधक समिति की ओर से फ्री उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। उन्होंने मंदिर आने वाले भक्तों से कोविड प्रोटोकाल का सख्ती से पालन करने व भीड़ एकत्रित न करने की अपील की है। साथ ही पुलिस विभाग से भी मंदिर परिसर में कर्मचारियों की तैनाती करने का आग्रह किया है।

एसडीएम ने मंदिर परिसर में लिया व्यवस्था का जायजा

एसडीएम सलूणी डा. स्वाति गुप्ता ने शनिवार को भलेई मंदिर में पहुंचकर व्यवस्था का जायजा लिया। उन्होंने मंदिर में शीश नवाने के बाद प्रबंधक समिति की ओर से भीड़ को नियंत्रित रखने व कोविड प्रोटोकाल का पालन सुनिश्चित करवाने के लिए किए गए प्रबंधों की समीक्षा की। उन्होंने मंदिर प्रबंधक समिति को दिशानिर्देश भी दिए।

Edited By: Jagran