संवाद सहयोगी, बिलासपुर : भाजपा सरकार के चार वर्ष पूरे होने पर मंडी में आयोजित रैली के विरोध स्वरूप कांग्रेस ने सोमवार को काले बिल्ले लगाकर काला दिवस मनाया। कांग्रेस कार्यकर्ता दिन में करीब 11 बजे शहीद स्मारक में एकत्रित हुए। इसके बाद उन्होंने उपायुक्त कार्यालय तक विरोध स्वरूप रैली निकालते हुए भाजपा के खिलाफ नारेबाजी की। विरोध स्वरूप निकाली रैली में जिला कांग्रेस अध्यक्ष अंजना धीमान, पूर्व विधायक बंबर ठाकुर, डा. बीरू राम किशोर व डा. बाबू राम गौतम सहित अन्य प्रमुख पदाधिकारी मौजूद रहे। जिला कांग्रेस अध्यक्ष अंजना धीमान ने अन्य पदाधिकारियों के साथ उपायुक्त पंकज राय के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन प्रेषित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने चार साल में एक भी उपलब्धि हासिल नहीं की है और न विकास किया है। भाजपा ने लोगों को झूठ बोलकर गुमराह किया है। आरोप लगाया कि चार सालों में सरकार बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने में नाकाम रही है। जिन युवाओं ने प्रतियोगी परीक्षाएं दी हैं, उनका परिणाम नहीं निकाला जा रहा है। बंबर ठाकुर ने आरोप लगाया कि केंद्र व प्रदेश सरकार ने महंगाई को बढ़ावा दिया है। डा. बीरू राम किशोर व डा. बाबू राम गौतम ने भी संबोधित किया। इस मौके पर जिला परिषद सदस्य गौरव शर्मा भी मौजूद थे।

हमीरपुर में जिला कांग्रेस कमेटी ने राज्यपाल को ज्ञापन भेजा

संवाद सहयोगी, हमीरपुर : जिला कांग्रेस कमेटी ने उपायुक्त देबाश्वेता बनिक के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन प्रेषित किया और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का हिमाचल आगमन पर विरोध जताया। जिला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने कहा कि डबल इंजन की सरकार का दावा करने वाली भाजपा हिमाचल के विकास के लिए कुछ नहीं किया है। इस कारण सरकार को जश्न मनाने का कोई अधिकार नहीं है। ऐसे में कांग्रेस ने इस दिन को विरोध व काले दिवस के रूप में मनाया।

जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेंद्र जार ने कहा कि प्रदेश सरकार पर 65,000 करोड़ का कर्ज है। बिना कोई उपलब्धि सरकार किस बात को लेकर जश्न मना रही है। प्रधानमंत्री को खुश करने के लिए जनता की कमाई को पानी की तरह बहाया जा रहा है। चार वर्ष में प्रदेश सरकार केंद्र सरकार से प्रदेश के विकास के लिए फूटी कौड़ी नहीं ला सकी है। कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रोन पूरी आबादी के लिए खतरा बना हुआ है। इसके मद्देनजर कई राज्यों में रात्रि क‌र्फ्यू लगाया जा चुका है। भाजपा ने हजारों लोगों को एकत्रित कर मंडी में बड़ी रैली का आयोजन किया। साथ ही रैली में भीड़ जुटाने के लिए सरकार ने अधिकारियों व कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है।

Edited By: Jagran