संवाद सहयोगी, भराड़ी : चुनाव आते ही सबसे पहले सबसे उत्साहित वह युवा दिखाई देते हैं जो पहली बार अपने मत का प्रयोग कर रहे होते हैं। अब पहले वाला समय नहीं रहा है कि जो घर का मुखिया कहेगा और उसी पार्टी को अपना वोट डालेंगे। समय के साथ-साथ लोगों की सोच भी बदल गई है। पढ़ा लिखा युवा अब अपने भविष्य के प्रति जागरूक है तो देश के प्रति अपने कर्तव्य को समझने लगा है। देश का युवा जानता है कि यदि देश की लगाम सही आदमी के हाथ में होगी तो देश तरक्की करेगा तथा उनका भविष्य भी सुरक्षित होगा। पहले के मुकाबले में अब लोग पार्टी के स्थान पर व्यक्ति को तवज्जो देने के लगे हैं। पहले लोग केवल चुनाव चिन्ह देखकर वोट डालते। लेकिन अब युवा न केवल व्यक्ति को देखते हैं बल्कि उसकी प्रतिष्ठा को भी नजरअंदाज नहीं करते हैं।

-------------

पहली बार वोट डाल रही है तो काफी उत्साहित हैं। वह केवल पार्टी को देखकर वोट नहीं डालेंगी। वह व्यक्ति की प्रतिष्ठा, ईमानदारी तथा समझदारी को देखते ही अपने वोट का प्रयोग करेंगी। उनका वोट किसी गलत व्यक्ति को चला गया तो इसका असर उनके भविष्य पर भी पड़ेगा।

रजनी धीमान

--------------

वोट का प्रयोग वह एक ईमानदार व्यक्ति को जिताने के लिए ही करेंगे। वह जानते हैं कि यदि एक वोट भी गलत व्यक्ति को चला जाता है तो इसका देश की तरक्की पर भी प्रभाव पड़ेगा। इसलिए वह सोच समझकर वोट का प्रयोग करेंगे। जो व्यक्ति युवाओं के भविष्य को सुरक्षित रखेगा वही वोट पाने का हकदार होगा।

अभिनव शर्मा

---------------

यदि देश की लगाम सही आदमी के हाथ में होगी तो देश तरक्की करेगा तथा उनका भविष्य भी सुरक्षित होगा। पहले के मुकाबले में अब लोग पार्टी के स्थान पर व्यक्ति को तवज्जो देने के लगे हैं। पहले लोग केवल चुनाव चिह्न देखकर वोट डालते। लेकिन अब युवा व्यक्ति को भी देखते हैं।

ज्योति देवी

----------------

अब पहले वाला समय नहीं रहा है कि जो घर का मुखिया कहेगा और उसी पार्टी को अपना वोट डालेंगे। समय के साथ साथ लोगों की सोच भी बदल गई है। पढ़ा लिखा युवा अब अपने भविष्य के प्रति जागरूक है तो देश के प्रति अपने कर्तव्य को समझने लगा है।

मधु देवी

Posted By: Jagran