संवाद सहयोगी, झंडूता : गेहड़वीं स्थित एक निजी स्कूल में बच्चों को चोट लगने पर अस्पताल न ले जाने पर अभिभावकों ने रोष जताया है। बच्चे के पिता छुंट्टी होने पर उसे लेने के लिए स्कूल पहुंचे तो उसने बाजू व शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द होने की शिकायत की। वह तुरंत उसे घुमारवीं अस्पताल ले गए। उसने स्कूल प्रबंधन की लापरवाही पर पुलिस में शिकायत दर्ज करवा दी है।

दिनेश चंदेल ने बताया कि उसका बेटा गेहड़वीं के एक निजी स्कूल में पढ़ता है। स्कूल परिसर में गिरने से उसे चोट लग गई थई। उसे तुरंत अस्प्ताल ले जाया जाना चाहिए था। लेकिन स्कूल प्रबंधन ने ऐसा नहीं किया और न ही उन्हें सूचित किया। जब स्कूल प्रबंधन से इस बारे में पूछा तो कहा गया आज फीस डे था। इसलिए वे बच्चे को अस्पताल नहीं ले जा सके। शिक्षकों ने गिरने के बाद बच्चे का हाल पूछा था। उसने ठीक बताया था। उसने आरोप लगाया स्कूल प्रबंधन झूठ बोल रहा है। प्रधानाचार्य ने कहा यह बात सही है माता-पिता को सूचित नहीं किया गया। बच्चे की हालत देखकर स्कूल प्रबंधन ने सोचा वह सही है। क्योंकि उसने अगले कक्षाएं भी लगाई हैं। अगर सीरियस बात होती तो बच्चे को अस्पताल ले जाते और माता-पिता को भी सूचना देते।

Posted By: Jagran