Move to Jagran APP

Yamunanagar: डिच ड्रेन से फैल रहीं बीमारियां, बेसहारा पशु पानी पीने से हो रहे प्रभावित

डिच ड्रेन से बीमारियां फैल रही हैं। गांवों के किसानों व ग्रामीणों के लिए परेशानी का कारण बन चुकी है। इससे किसानों की फसलें भी प्रभावित हो रही है। लोग बोल रहे हैं कि बेसहारा पशु पानी पीने से प्रभावित हो रहे हैं। आज तक इसका कोई समाधान नहीं हुआ।

By Jagran NewsEdited By: Himani SharmaPublished: Sun, 05 Feb 2023 10:15 AM (IST)Updated: Sun, 05 Feb 2023 10:15 AM (IST)
डिच ड्रेन से फैल रहीं बीमारियां, बेसहारा पशु पानी पीने से हो रहे प्रभावित

संवाद सहयोगी, रादौर: वर्षों पहले पश्चिमी यमुना नहर के साथ साथ कैमिकल युक्त पानी की निकासी के लिए बनाई गई डिच ड्रेन अब पास लगते गांवों के किसानों व ग्रामीणों के लिए परेशानी का कारण बन चुकी है। लोगों का कहना है कि डिच ड्रेन क्षेत्र में न केवल बीमारियां फैल रही हैं बल्कि किसानों की फसलें भी प्रभावित हो रही है।

Hisar News: अहाता और दो चिकन कार्नर पर पिलाई जा रही थी शराब, संचालकों पर मामला दर्ज

इतना ही नहीं इसके आसपास घूमने वाले बेसहारा पशु व जंगली जीव भी जब इस पानी को पीते है तो वह भी प्रभावित हो रहे हैं। क्षेत्र के लोगों की मांग है कि इस ड्रेन को या तो बंद करवाया जाए या फिर इसे अंडर ग्राउंड करवाकर उनकी समस्या का समाधान करवाया जाए।

इस तरह बढ़ रही परेशानी

पूर्व सरपंच रामलाल, सतपाल, अमरदीप, बलजीत, मनीत व हरि सिंह ने बताया कि वर्षों पहले कैमिकल युक्त पानी की निकासी के लिए इस डिच ड्रेन को खोदा गया था। ताकि गंदा पानी नहर में न जाए। उस समय ग्रामीणों ने इसके कच्चा होने पर विरोध भी किया गया था लेकिन उस समय ग्रामीणों का कहा गया था कि कुछ समय बाद इसका स्थाई प्रबंध करवा दिया जाएगा ताकि लोगों को परेशानी न हो। लेकिन आज तक इसका कोई समाधान नहीं हुआ।

पहले धीरे-धीरे इस कैमिकल युक्त पानी का रिसाव फसलों में होता था। जिससे फसलें खराब होनी शुरू हुई। धीरे धीरे यह पानी नीचे जाता गया जिससे किसानों के खेतों में लगे ट्यूबवेलों के पानी पर भी इसका असर साफ दिखाई देने लगा। अब स्थिति ऐसी है कि ट्यूबवेलों के पानी में झाग बन जाते है। इतना ही नहीं अब इन गांवों का पीने का पानी भी इससे प्रभावित होने लगा है। जिससे गांवों में कैंसर के मरीज भी बढ़ रहे है। ड्रेन से आने वाली गंदी बदबू भी किसानों को परेशान करती है।

तीन गांवों की पंचायत दे चुकी है प्रस्ताव

गांव पोटली के पूर्व सरपंच रामलाल ने बताया कि उनके क्षेत्र में इस डिच डे्रन से करीब आधा दर्जन से अधिक गांव लगते है। जिसमें गांव पोटली, खुर्दबन, भगवानगढ़, कांजनू, रत्तनगढ़ व जुब्बल इत्यादि शामिल है। इन गांवों की भूमि इस डिच ड्रेन के साथ लगती है। ड्रेन से हो रही समस्या को लेकर करीब दो वर्ष पहले तीन गांवों पोटली, खुर्दबन व भगवानगढ़ की पंचायत ने जिला उपायुक्त को एक प्रस्ताव पास कर दिया था। जिसमें इस डिच डे्रन को बंद करवाने की मांग की गई थी। लेकिन अभी तक इस समस्या पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया।

बंद नहीं हुई तो आंदोलन करेंगे किसान

किसानों का कहना है कि इस डिच ड्रेन के जल्द से जल्द बंद किया जाए या फिर पाइप डालकर इसे अंडर ग्राउंड किया जाए। जिसके लिए वह मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, पर्यावरण विभाग, कृषि विभाग व एनजीटी को पत्र लिखकर मांग करेगें। जल्द ही एसडीएम रादौर को भी इस समस्या को लेकर एक ज्ञापन सौंपा जाएगा। अगर इसके बाद भी इसका कोई समाधान नहीं हुआ तो ग्रामीण इसको लेकर एक बड़े आंदोलन की रूपरेखा तैयार करेंगे।

Haryana Crime: हैकर ने किया दुष्कर्म का प्रयास, चैट वायरल की धमकी दे रुपये मांगे


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.