जागरण संवाददाता, यमुनानगर :

डीसी मुकुल कुमार ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत चिह्नित गांवों में विकास कार्य विशेष प्राथमिकता पर पूरा करवाएं ।

निर्माण सामग्री की गुणवत्ता पर नजर रखने के साथ-साथ इस बात पर भी विशेष बल दिया जाना चाहिए कि सभी कार्य निर्धारित समय अवधि में पूरे हों। योजना के तहत जिला के 54 गांवों की विकास योजना तैयार की है और इसमें विकास एवं पंचायत विभाग के अलावा अन्य विभागों द्वारा भी विकास कार्य करवाए जा रहे है। मंगलवार को डीसी प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना की समीक्षा के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। अधिकारियों को यह निर्देश भी दिए कि वे ग्रामीण दौरे के दौरान संपर्क में आने वाले लोगों को कोरोना बीमारी से बचाव के उपायों के प्रति भी जागरूक करते रहे ।

जिला परिषद एवं ग्रामीण विकास अभिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नवीन आहूजा ने इस अवसर पर बताया कि इस योजना में यमुनानगर जिला के 54 गांवों में विभिन्न विभागों की ओर से 548 विकास कार्य करवाए जाने है । इन कार्यों के लिए केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत उपलब्ध फंड में से 835 लाख रुपये, राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं से 210 लाख रुपये तथा प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत 252 लाख रुपये की राशि उपलब्ध करवाई गई है । ऐसे कार्य जिनके लिए संबंधित विभाग के पास फंड उपलब्ध नहीं है, उसके लिए 20 लाख रुपये की राशि गैप फिलिग के लिए उपलब्ध करवाने का प्रावधान है। 54 गांवों में से सात गांव नगर निगम क्षेत्र में आने के कारण संबंधित खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी अपने खंड के अन्य गांवों को इस योजना में शामिल कर सकते हैं।

Edited By: Jagran