जागरण संवाददाता, यमुनानगर : एचबी की रिपोर्ट अब मात्र तीन सेकेंड में मिलेगी। स्वास्थ्य विभाग ने 64 डिजिटल हीमोग्लोबिनोमीटर की व्यवस्था की है। डब्ल्यूएचओ के निर्देशों पर विभाग ने ये निर्णय लिया। जिला अस्पतालों सहित सभी सीएचसी और पीएचसी पर इसी आधुनिक मशीन से होगा। अब तक सामान्य मशीन से रक्त की जांच होती है। इसकी रिपोर्ट पर भी कई बार अंगुलियां उठती रही हैं।

जिले के सरकारी अस्पतालों में स्वीडन की तर्ज हीमोग्लोबिनोमीटर से टेस्ट होगा। प्रदेश के किसी भी अस्पताल में अब तक यह व्यवस्था नहीं है। सामान्य मशीन से ही मरीज के रक्त की जांच होती है। इसमें समय भी लगता है। रिपोर्ट भी विश्वनीय नहीं होती। अलग अलग लैब में कराए गए टेस्ट की रिपोर्ट भी अलग होती है। सरकारी अस्पताल में मरीजों की संख्या अधिक होती है। उस हिसाब से लैब टेक्नीशियन की संख्या भी कम है। मरीजों को रिपोर्ट मिलने में देरी होती है।

यहां मिलेगा विशेष लाभ

स्वास्थ्य विभाग की और से स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्रों पर बच्चों के स्वास्थ्य की जांच होती है। एक ही दिन में कई कई स्कूलों में रक्त की जांच होती है। एनिमिक बच्चों की संख्या अधिक होने के कारण टेस्ट करना और भी जरूरी हो जाता है। दूसरा एएनएम गर्भवती महिलाओं के रक्त की जांच भी समय समय पर करती हैं। ऐसी स्थिति में ये मशीन ज्यादा कारगर साबित होगी।

स्वास्थ्य की सभी लैब पर अब डिजिटल हीमोग्लोबिनोमीटर से रक्त की जांच होगी। इसकी रिपोर्ट पूरी तरह विश्वनीय होगी व तुरंत मिलेगी। डब्ल्यूएचओ की भी यही रिकेमेंट है।

डॉ. कुलदीप सिंह, सिविल सर्जन, यमुनानगर।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप