संवाद सहयोगी, बिलासपुर : महर्षि वेद व्यास की तपोस्थली बिलासपुर में दो दिनों से पानी के लिए हा-हाकार मचा हुआ है। जनस्वास्थ्य विभाग के तीन ट्यूबवेल की मोटर एक साथ जल गई। मोटर खराब होने से लोग पानी की एक-एक बूंद के लिए तरस गए हैं। कुछ लोग तो मंदिर में लगे समर्सिबल से पानी भरकर काम चला रहे हैं। सोमवार दोपहर बाद तक भी मोटर ठीक नहीं की जा सकी थी। कस्बे में जनस्वास्थ्य विभाग के सात ट्यूबवेल हैं। उनमें से वेद व्यास सरोवर पर लगे ट्यूबवेल का बोरवेल काफी समय पहले फेल हो चुका है। यहां पर नया ट्यूबवेल लगाया जाना है। बाकी छह में से डेहा बस्ती, छोटा बस स्टैंड और चौराही रोड पर लगे ट्यूबवेल की मोटर रविवार सुबह जल गई थी। इससे आधे बिलासपुर में पेयजल सप्लाई बंद हो गई। लोगों को नहाना तो दूर पीने का भी पानी नहीं मिल। पानी के लिए लोग तरस गए। जब पूरा दिन पानी नहीं मिला तो लोगों ट्यूबवेलों पर चक्कर लगाने शुरू कर दिए। ट्यूबवेल खराब होने से बिलासपुर के सैनी मोहल्ला, हरिजन बस्ती, चौराही रोड, श्रीराम कॉलोनी, सत्संग कॉलोनी, गडरियान मोहल्ला, पंजाबी मोहल्ला, मुख्य बाजार, वाल्मीकि बस्ती, डेहा बस्ती, छछरौली रोड पर दो दिन से पानी नहीं मिला। श्रीराम कॉलोनी निवासी विजय, राजेश कुमार, म¨हद्र, अनिल कुमार, मैनपाल, हरिजन बस्ती निवासी जगतार ¨सह, मुकेश कुमार, शुभम, सचिन, ब¨लद्र, सुभाष आदि ने बताया कि दो दिन से पानी नहीं आ रहा। पूछताछ करने पर पता चला कि चौराही रोड पर लगे ट्यूबवेल की मोटर जल गई है। मजबूरी में उन्हें गुरु रविदास मंदिर में लगे समर्सिबल से पानी भरना पड़ा। बिना पानी के घर के सारे काम प्रभावित हो गए हैं। कुछ लोग बाजार से पानी के कैंपर लेकर आए। पशु को पिलाने के लिए भी यहां वहां से पानी का इंतजाम कर रहे हैं। कम वोल्टेज से जली मोटर : गाबा

साढौरा के जनस्वास्थ्य विभाग के एसडीओ दिनेश गाबा ने बताया कि तीन ट्यूबवेल की मोटर एक साथ जल गई है। इसके लिए बिजली निगम जिम्मेदार है, क्योंकि वोल्टेज कभी कम आती है, तो कभी ज्यादा। खराब मोटरों को ठीक करा दिया है। ट्यूबवेल में मोटर लगते ही पानी की सप्लाई सुचारु हो जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस