जागरण संवाददाता, यमुनानगर : किसान और खरीदार के सीधे आपस में जुड़ने से बिचौलियों पर अंकुश लगेगा, किसानों को उनकी फसल का लाभकारी मूल्य मिलने से किसानों की आय और जीवन स्तर में सुधार होगा। केंद्र सरकार की ओर से कृषि क्षेत्र के लिए लाए गए तीन अध्यादेशों से किसानों का नहीं बल्कि कांग्रेस को नुकसान होगा। कांग्रेस किसानों की आड़ में अपना राजनीतिक हित साध रही है। इन तीन नए कानूनों के पास होने से किसान अपनी उपज के दाम खुद ही तय करने के लिए स्वतंत्र होगा। शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने शनिवार को पीडब्ल्यूडी रेस्ट में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की मानसिकता अंग्रेजों वाली है। वह देश के किसान अन्नदाता को आजाद नहीं देख सकती। इन अध्यादेशों के लागू होने पर एमएसपी पर किसान फसल को मंडी में बेच सकता है। यदि उसे इससे ज्यादा रेट मिलता है तो मंडी से बाहर भी बेच सकेगा। किसानों में भ्रम फैलाया जा रहा है कि इससे जमाखोरी बढ़ेगी, जो गलत है। नए कानून से अनाज खुले में खराब होने से बचेगा। सरकार किसान के खाते में फसल का पैसा जमा कराएगी। आढ़ती को उसका कमीशन दे दिया जाएगा। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा कह रही है जिन राज्यों में कांग्रेस सरकार है वहां तीन अध्यादेशों को लागू नहीं किया जाएगा। ऐसा करके वे डा. भीमराव अंबेडकर द्वारा लिखे संविधान की धज्जियां उड़ाने की काम कर रही हैं। इस मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष विपुल गर्ग, वरिष्ठ भाजपा नेता अशोक मेहंदीरत्ता मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप