संवाद सहयोगी, बिलासपुर : ढलौर गांव में मतदान केंद्र नंबर 145 पर वोट डालने आए एडवोकेट रामकरण और उनके साथी विजय पर कुछ युवकों ने हमला बोल दिया। आरोप है कि उन्हें जातिसूचक शब्द कहे गए। पुलिस के सामने ही वोट डालने से रोक दिया। आरोपितों में से एक के हाथ में कट्टा भी था। पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

ढलौर के रामकरण चंडीगढ़ हाईकोर्ट में अधिवक्ता हैं। 21 अक्टूबर को रामकरण अपने साथी विजय के साथ गांव के सरकारी स्कूल में बूथ नंबर 145 पर वोट डालने के लिए गए थे। जब वे बूथ वोट की पर्ची लेकर गए, तो गौरव, सौरभ, बंटी आदि ने अपने आठ-10 साथियों के साथ उन्हें रोक लिया। जातिसूचक शब्द कहते हुए धमकी दी कि तू कैसे वोट डालेगा। तेरे को हम वोट डालने नहीं देंगे। जिस पर उनके बीच बहस हुई। गौरव, सौरभ, बंटी आदि ने अपने साथियों के साथ मारपीट शुरू कर दी। शोर होने पर पुलिसकर्मी और मतदान केंद्र के एजेंट बाहर आए और किसी तरह से आरोपितों को वहां से हटाया।

इसके अलावा चंदाखेड़ी के बूथ नंबर 137 पर पीठासीन अधिकारी अरविद जैन ने बताया कि गांव का ही संदीप कुमार पोलिग बूथों की मोबाइल से वीडियो बना रहा था। जब उसे रोका, तो वह गाली गलौज करने लगा। शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप