जागरण संवाददाता, सोनीपत : दिल्ली के दो लोगों ने कारोबारी को चोरी की कार साढ़े चार लाख रुपये में बेच दी। आरोपितों ने उसके फर्जी कागजात तैयार कराकर उसको सौंप दिए। जब कारोबारी ने कार अपने नाम कराने को दबाव बनाया तो आरोपितों ने इन्कार करने के साथ ही धमकी देना शुरू कर दिया। आरोपितों ने दो बार कारोबारी के घर से कार को चोरी करने का भी प्रयास किया। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

रवि कुमार ने एसपी को बताया कि वह खरखौदा क्षेत्र के गांव सेहरी का रहने वाला है। वह बिल्डर हैं। उनको एक टाटा नेक्सन कार की जरूरत थी। इसी दौरान उनको दिल्ली के महेंद्रा पार्क क्षेत्र का रहने वाला संदीप उर्फ सन्नी मिला। उसने बताया कि वह कार का डीलर है। उसने एक कार दिखवाई, जो उनको पसंद आ गई। उसने कार के मालिक के रूप में दिल्ली के गांव हमीदपुर के रहने वाले सोमेंद्र मान से मिलवाया। कार का साढ़े चार लाख रुपये में सौदा हुआ, जिसमें से चार लाख रुपये नकद दे दिए गए। बाकी के 50 हजार रुपये नाम ट्रांसफर कराने के बाद देने तय हुए। सोमेंद्र ने उनको कार के कागजात सौंप दिए। कागजात सरोज के नाम थे। आरोपित सोमेंद्र मान ने अपना नाम सरोज बताकर ही उनको कार दी थी।

उसके बाद कार को ट्रांसफर कराने के नाम पर वह परेशान करते रहे। अब आकर उन्होंने कार को नाम कराने से इन्कार करते हुए कहा कि आपके साथ ठगी हुई है, हमारा काम ही यही है। आरोपितों ने दो बार कार को उनके घर से ले जाने का भी प्रयास किया। उसके लिए उन्होंने अपने तीन-चार साथियों को भेजा। इसकी शिकायत डायल-112 पर की गई थी। रवि ने एसपी से आरोपितों पर कार्रवाई कराने और अपने चार लाख रुपये वापस कराने की मांग की है। एसपी के आदेश पर कुंडली थाना पुलिस ने दोनों आरोपितों और उनके साथियों के खिलाफ धोखाधड़ी और अमानत में खयानत करने की रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Edited By: Jagran