जागरण संवाददाता, सोनीपत : डा. बीआर आंबेडकर राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर विनय कपूर मेहरा ने कहा कि हमने न्यूजीलैंड की यूनिवर्सिटी वाइकाटो के कुलपति प्रो. नेल क्विग्ली के साथ अंतरराष्ट्रीय शैक्षिक अनुबंध किया है। इसके लिए आनलाइन डिजिटल हस्ताक्षर करके वैधानिक अनुबंध को पूरा कर लिया है। इसके साथ ही विश्वविद्यालय प्रदेश का ऐसा करने वाला पहला शिक्षण संस्थान बन गया है।

उन्होंने बताया कि अब हमारे छात्रों को देश के कानून के साथ ही विश्व के कानून की भी बेहतर समझ हो सकेगी। इसके साथ ही छात्रों को अनुसंधान का लाभ मिलेगा। विश्वविद्यालय के अंतरराष्ट्रीय विकास को बढ़ावा देने और छात्रों की अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा को बढ़ाने के लिए यह बेहतर प्रयास है। शैक्षणिक भागीदारी विकसित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान संस्थानों और विश्वविद्यालयों के साथ सक्रिय रूप से काम जारी रहेगा। इसके साथ ही सांस्कृतिक आदान-प्रदान, कलात्मक और शैक्षणिक आदान-प्रदान, छात्र विनिमय और अन्य संबंधित मामलों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध स्थापित कर विश्वविद्यालय ने विश्वपटल पर समझौता हस्ताक्षर करके पहचान बनाई है। दोनों संस्थान अंतरराष्ट्रीय शैक्षणिक छात्रवृत्ति और अनुसंधान को आगे बढ़ाने का कार्य करेंगे। यह अनुबंध (एमओयू) पारस्परिक सम्मान और अंतरराष्ट्रीय जुड़ाव के सिद्धांतों के आधार पर संबंध विकसित करने के लिए दोनों संस्थाओं ने सहमति प्रदान कर दी हैं। अनुसंधान, प्रबंधन और शिक्षण कर्मचारियों के लिए बेहतर अवसर प्रदान करने के उद्देश्यों से अनुबंध किया गया है। इस अनुबंध से अनुसंधान, प्रकाशनों, अकादमिक शिक्षण संसाधनों और सामान्य रुचि की अन्य सामग्रियों का आदान-प्रदान किया जाएगा। कुलपति ने बताया कि हमारे विश्वविद्यालय ने अब तक 11 संस्थानों से अनुबंध किया है। न्यूजीलैंड के वाइकाटो विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. नेल क्विगली ने बताया कि भारत में जाकर हमारे विद्यार्थियों को अनुसंधान और शैक्षणिक गतिविधियों के साथ ही भारत की संस्कृति भी सीखने को मिलेगी।

Edited By: Jagran