संवाद सहयोगी, खरखौदा : स्वास्थ्य विभाग ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) व प्राथमिक चिकित्सा केंद्र (पीएचसी) स्तर पर खरीदी जाने वाली दवाओं व अन्य सामान पर रोक लगा दी है। अब सीएचसी व पीएचसी के अधिकारी खुद दवाओं को नहीं खरीद सकेंगे। उन्हें जिन दवाओं, इंजेक्शनों व अन्य सामान की जरूरत होगी, उसकी मांग का डाटा तैयार करना होगा और सिविल सर्जन को भेजना होगा। वहीं से सीएचसी व पीएचसी स्तर पर दवाएं भेजी जाएंगी।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में अब से पहले जिन दवाओं की कमी होती थी तो वहां के प्रभारी को यह अधिकार था कि वह अपने स्तर पर दवाओं को खरीदें व मरीजों को उपलब्ध करवा दें। अब स्वास्थ्य विभाग ने इस नियम को बदल दिया है। अधिकारियों के अनुसार सीएचसी व पीएचसी स्तर पर कोई दवा, इंजेक्शन या पट्टी नहीं खरीदी जाएगी। इसके लिए सिविल सर्जन को अपनी मांग भेजनी होगी, वहीं से उन्हें दवा भेजी जाएंगी। ऐसे में आपात स्थिति में दवाएं न होने से मरीजों को परेशानी उठानी पड़ सकती है। नए नियमों के तहत अब सभी दवाओं सहित अन्य सामान का डाटा तैयार कर सिविल सर्जन कार्यालय में भेजा जाना है। वहीं से सभी दवाएं सीएचसी व पीएचसी स्तर पर मुहैया करवाई जाएंगी।

- डॉ. मीनाक्षी शर्मा, एसएमओ, सीएचसी खरखौदा

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran