Move to Jagran APP

'ना मैं हारूंगा; ना वो जीतेंगे', भाजपा-कांग्रेस के उम्मीदवार साथ में करते रहे लंच, रिजल्ट देखा और फिर...

लोकसभा चुनाव में सोनीपत सीट पर कांटे का मुकाबले के बावजूद दोनों प्रत्याशियों ने सादगी की मिसाल कायम की। दिनभर चुनाव परिणाम ऊपर-नीचे होता रहा लेकिन भाजपा के मोहन लाल बड़ौली व कांग्रेस प्रत्याशी सतपाल ब्रह्मचारी दोनों सादगी से एकसाथ बैठकर परिणामों पर नजर बनाए रहे। दोनों ने एक साथ ही लंच किया। इस दौरान हल्के मजाक भी चलते रहे।

By Jagran News Edited By: Pooja Tripathi Wed, 05 Jun 2024 06:30 PM (IST)
मोहन लाल बड़ौली के मोबाइल पर चुनाव परिणाम देखते कांग्रेस के सतपाल ब्रह्मचारी। जागरण

नंदकिशोर भारद्वाज, सोनीपत। लोकसभा चुनाव में सोनीपत सीट पर कांटे का मुकाबले के बावजूद दोनों प्रत्याशियों ने सादगी की मिसाल कायम की।

दिनभर चुनाव परिणाम ऊपर-नीचे होता रहा लेकिन भाजपा के मोहन लाल बड़ौली व कांग्रेस प्रत्याशी सतपाल ब्रह्मचारी दोनों सादगी से एकसाथ बैठकर परिणामों पर नजर बनाए रहे।

दोनों ने एक साथ ही लंच किया। इस दौरान हल्के मजाक भी चलते रहे। ब्रह्मचारी ने बड़ौली को अपना बड़ा भाई बताते हुए कि मैंने एक दिन भी प्रचार के दौरान बड़े भाई पर कोई आरोप नहीं लगाया।

प्रत्याशी नहीं भाजपा-कांग्रेस में हार-जीत

वहीं बड़ौली ने बताया कि इस चुनाव में प्रत्याशी नहीं भाजपा-कांग्रेस में हार-जीत हुई है। पोस्टल बैलेट की मतगणना के दौरान ब्रह्मचारी बड़ौली के मोबाइल पर परिणाम देखते रहे।

मोहाना के बिट्स कालेज में सुबह आठ बजे पोस्टल बैलेट की गिनती शुरू हो गई थी।सबसे पहले मोहन लाल बड़ौली बिट्स कॉलेज पहुंचे और काउंटिंग की निगरानी शुरू कर दी। इसके बाद जींद से सतपाल ब्रह्मचारी पहुंचे और उनके साथ एक ही सोफे पर बैठ गए।

कई घंटे दोनों साथ ही बैठकर परिणाम देखते रहे। इस दौरान ब्रह्मचारी बड़ौली के साथ उनके मोबाइल पर परिणाम देखते रहे। इसके बाद जैसे ही लंच करने का समय हुआ तो दोनों एक साथ उठकर दूसरे कमरे में पहुंचे और एक साथ बैठकर लंच किया।

'आप विधायक हैं मुझे सांसद बन लेने दो'

इस दौरान ब्रह्मचारी ने कहा कि बड़ौली मेरे बड़े भाई हैं। इनकी कृपा रही तो मैं जीत हासिल करूंगा। इस दाैरान ब्रह्मचारी बढ़त बनाए हुए थे। खाने के बाद दोनों ने विधानसभा वार हार-जीत का विश्लेषण किया।

ब्रह्मचारी ने कहा कि आपकी रिश्तेदारियां सफीदों हलके में अधिक हैं, आपके एक फोन पर आपके रिश्तेदारों ने आपको वोट देते हुए हरा दिया। ब्रह्मचारी ने कहा कि पूरे चुनाव में प्रचार के दौरान मैंने बड़ौली के खिलाफ एक भी शब्द नहीं बोला।

इस पर बड़ौली ने कहा कि मैंने भी आपके खिलाफ कुछ नहीं कहा। बड़ौली बोले कि हम दोनों ने यह चुनाव बड़े व छोटे भाई की तरह ही लड़ा।

ब्रह्मचारी ने कहा कि मैंने आपसे शुरू में ही कहा था कि मुझे सांसद बन लेने दो, आप तो विधायक हो। बड़ौली बोले की चुनाव में मैं नहीं हारूंगा या ब्रह्मचारी नहीं जीतेंगे, भाजपा-कांग्रेस की हार-जीत होगी।

ब्रह्मचारी ने भाजपा जिलाध्यक्ष को दी सांत्वना

लंच के दौरान ब्रह्मचारी बढ़त पर थे। दोनों के साथ भाजपा जिला अध्यक्ष जसवीर दोदवा व निशांत छौक्कर भी बैठे थे।इस दौरान ब्रह्मचारी जीत की ओर बढ़ रहे थे। इस पर ब्रह्मचारी ने दोदवा को सांत्वना देते हुए उनकी पीठ थपथपाई और उनका हौसला बढ़ाया।