संवाद सहयोगी, गन्नौर (सोनीपत) : पुगथला रोड पर खंभे पर बिजली का तार ठीक कर रहे कच्चे कर्मचारी की करंट लगने से मौत हो गई। हादसे से गुस्साए स्थानीय लोगों व पुगथला के ग्रामीणों ने गन्नौर-गोहाना रोड पर जाम लगा दिया। ग्रामीणों का आरोप है कि बिजली निगम के सरढाना पावर हाउस में कार्यरत कर्मचारी की लापरवाही की वजह से यह हादसा हुआ, जिसमें कर्मचारी की मौत हो गई। जाम की सूचना मिलते ही बतौर ड्यूटी मजिस्ट्रेट तहसीलदार रोहतास पंवार के साथ डीएसपी आर्यन चौधरी व बिजली निगम की एसडीओ सुनैना देवी मौके पर पहुंची और ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया। बाद में बिजली निगम के अधिकारियों ने ग्रामीणों की मांगों पर आश्वासन दिया, जिस पर ग्रामीणों ने करीब साढ़े पांच घंटे बाद जाम को खोला।

गांव पुगथला निवासी दिनेश पिछले कुछ महीनों से बिजली निगम में कच्चे कर्मचारी के तौर पर कार्यरत था और उसी से अपने परिवार का गुजर बसर करता था। रविवार सुबह पुगथला रोड स्थित खेतों में बिजली का तार टूटने के कारण बिजली सप्लाई बाधित हो गई थी। दिनेश रविवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे पुगथला रोड पर खंभे पर चढ़कर तार ठीक करने काम कर रहा था। वह तार बदलने से पहले सरढाना पावर हाउस में मौजूद लाइनमैन प्रवीन से सप्लाई कटवा कर गया था। आरोप है कि कुछ ही देर बाद प्रवीन ने पावर सप्लाई दोबारा शुरू कर दी, जबकि इसके बारे में दिनेश को बताया नहीं। दिनेश ने जैसे ही तार बदलने का कार्य शुरू किया तो उसे करंट का जबरदस्त झटका लगा और वह खंभे से नीचे आ गिरा। आस-पास के ग्रामीणों ने उसे तुरंत इलाज के लिए खानपुर मेडिकल अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इससे ग्रामीण भड़क गए और रोड जाम कर दिया। ग्रामीणों ने आरोपित लाइनमैन के खिलाफ कार्रवाई करने व मृतक के परिवार को आर्थिक मदद देने की मांग को लेकर करीब साढ़े पांच घंटे तक जाम लगाए रखा। विभागीय लापरवाही के कारण इससे पहले भी तीन कर्मचारियों की करंट से मौत हो चुकी है। पुलिस ने आरोपित लाइनमैन प्रवीन के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। फिलहाल पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों को सुपर्द कर दिया है।

कुलदीप ¨सह, थाना गन्नौर प्रभारी। बिजली ठीक करने का काम कर रहे एक कच्चे कर्मचारी की करंट लगने से मौत हो गई। इससे ग्रामीणों ने जाम लगा दिया था। ग्रामीणों ने बिजली निगम के सामने अपनी मांगे रखी, जिन्हें मान लिया गया। इसके बाद ग्रामीणों ने जाम खोल दिया।

रोहतास पंवार, तहसीलदार, गन्नौर।

Posted By: Jagran