जागरण संवाददाता, गोहाना: बिजली निगम ने बिजली चोरी को रोकने के लिए नवंबर माह में शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में छापेमारी अभियान चलाया। निगम की टीमों ने सिटी, सब अर्बन, कथूरा व फरमाणा सब डिविजनों में अभियान चलाकर एक माह में बिजली चोरी करते हुए 205 उपभोक्ताओं को पकड़ा। इन उपभोक्ताओं पर करीब 31 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। निगम के कार्यकारी अभियंता वीरेंद्र मोर ने सभी सब डिविजनों के अधिकारियों को बिजली चोरों से सख्ती से निपटने के निर्देश भी दिए।

शहरी क्षेत्र में करीब 20 से 25 फीसद और ग्रामीण क्षेत्र में 70 से 80 फीसद बिजली चोरी हो रही है। इससे निगम को घाटा हो रहा है। निगम की ओर से बिजली चोरी रोकने के लिए स्थानीय अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए गए हैं। निगम के स्थानीय अधिकारियों को नवंबर माह में 50 लाख रुपये तक बिजली चोरी के केस पकड़ने के टारगेट दिए गए थे। निगम के गोहाना डिविजन के अंतर्गत आने वाले सिटी, सब अर्बन, कथूरा व फरमाणा सब डिविजनों के एसडीओ को अलग-अलग टारगेट दिया गया। बिजली चोरी पकड़ने के लिए 12 टीमें गठित की गईं। इन टीमों ने गांवों व शहर में नवंबर माह में लगातार छापेमारी अभियान चलाया। चारों सब डिविजनों में एक माह में 205 उपभोक्ताओं को बिजली चोरी करते हुए पकड़ा गया और उन पर करीब 31 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया। यहां पकड़े गए इतने केस और इतना लगाया जुर्माना -सिटी सब डिवीजन--- 44 केस--- 10.97 लाख रुपये का जुर्माना सब अर्बन सब डिवीजन--- 79 केस --- 9.35 लाख रुपये का जुर्माना कथूरा सब डिवीजन--- 49 केस--- 6.58 लाख रुपये का जुर्माना फरमाणा सब डिवीजन--- 33 केस--- 3.95 लाख रुपये का जुर्माना दूसरे सब डिवीजन के क्षेत्र में जाती हैं टीमें

निगम अधिकारियों ने बिजली चोरी रोकने के लिए 12 टीमें गठित की हैं। इन टीमों के कर्मचारी एसडीओ व जेई के नेतृत्व में छापेमारी करते हैं। संबंधित क्षेत्र के एसडीओ व जेई की टीम दूसरे सब डिवीजन के क्षेत्र में छापेमारी करने के लिए जाती है। ऐसा इसलिए किया गया है कि कोई कर्मचारी अपने परिचित उपभोक्ता से सांठगांठ न कर पाए। बिजली चोरी से निगम को नुकसान हो रहा है। चोरी रोकने के लिए सभी सब डिविजनों के अधिकारियों को छापेमारी करने के निर्देश दिए गए हैं। अधिकारियों को लक्ष्य भी दिया गया है। जिस उपभोक्ता को जुर्माना लगाया जाता है उससे अधिकारी जल्द वसूली भी करें। अगर कोई उपभोक्ता जुर्माना देने में आनाकानी करता है तब उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाए।

वीरेंद्र सिंह मोर, कार्यकारी अभियंता, गोहाना, बिजली निगम

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस