संवाद सहयोगी, कालांवाली: सरकार द्वारा ग्राम सचिवों की ड्यूटी ई-गिरदावरी कार्य में लगाने पर ओढ़ां व बडागुढा खंड के सचिवों ने रोष जताया। उन्होंने एसडीएम को ज्ञापन सौंपने का फैसला लिया है।

ग्राम सचिव जसविद्र सिंह, विजय कुमार, जयपाल, सुरेंद्र सिंह, नीरज कुमार, धर्मबीर, महेंद्र सिंह, राजू सिंह, आजाद सिंह, अनिल कुमार, अजीत आदि का कहना है कि ई-गिरदावरी का काम सौंपने से उनके पंचायतों के काम प्रभावित हो रहे है। उन्हें ई-गिरदावरी का अनुभव भी नहीं है। उन पर काम का अधिक बोझ डाला जा रहा है जिससे वे मानसिक तौर परेशान हो गये है। उनका कहना है कि वे ई गिरदावरी का काम नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि वे पिछले काफी समय से गांवों में लाल डोरा की जमीनों की पैमाइश व अन्य कामों में लगे हुए है। इसके अलावा पंचायतों का कार्यकाल पूरा होने के कारण विकास कार्यों व अन्य काम भी उन्हें देखने पड़ते हैं, अब उन पर ई-गिरदावरी का काम सौंपा जा रहा है। उन्हें इस बारे न तो कोई जानकारी है और न ही अनुभव जिससे गड़बड़ी की आशंका रहती है। उन्होंने कहा कि गांवों में लाल डोरा की जमीनों की पैमाइश का कार्य को जल्द से जल्द पूरा करने का दबाव बनाया जा रहा है, जबकि यह कार्य गांवों के पटवारियों से करवाया जाना चाहिए था, जिस कार्य का उन्हें अनुभव नहीं है, ऐसे में जल्दबाजी में कहीं भी गलती हो सकती है। उन्होंने मांग की गई कि प्रशासन व सरकार उन्हें इस कार्य की जिम्मेवारी से मुक्त करें ताकि वे पंचायतों के काम सही ढंग से देख सके।

Edited By: Jagran