जेएनएन, सिरसा/चंडीगढ़। चौटाला परिवार की टूट और इनेलो में जारी रस्‍साकसी में नया मोड़ आता दिख रहा है। पूरे मामले में सियासी जोड़तोड़ चरम पर पहुंच गया है और दोनों भाइयों अजय सिंह चौटला व अभय सिंह चौटाला अपने दांव चलने में लगे हैं। विधानसभा में नेता विपक्ष अभय सिंह चौटाला ने अजय सिंह चाैटाला के दांवों की काट के लिए नई चाल चली है। चर्चा है कि अभय इनेलो की प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्‍याें व‍ विधायकाें को अजय चाैटाला की पहुंच से दूर रखने के लिए हरियाणा से बाहर ले जा सकते हैं। इसके लिए इनलो का रथ भी तैयार है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इन्‍हें गोवा या किसी अन्‍य पर्यटक स्‍थल पर ले जाया जा सकता है।

अभय चौटाला की कार्यकारिणी सदस्‍यों व विधायकों को हरियाणा से बाहर ले जाने की तैयारी

अभय चौटाला ने आज ही इनेलो के विधायकों, सांसदों, पार्टी के विभिन्‍न जिलों व हलकों के प्रधानों व अन्‍य पदाधिकारियों की बैठक बुलाई। इसके साथ ही पार्टी की पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक भी बुलाई जाएगी। कार्यकारिणी की बैठक कब होगी यह स्‍पष्‍ट नहीं है। पहले 16 नवंबर को इसके आयाजित होने की बात कही गई थी, लेकिन अब नए घटनाक्रम में यह कभी भी हो सकती है।

अभय बोले- परिवार में कोई विवाद नहीं, बड़े भाई अजय चौटाला ने मिलने को बुलाया था

सिरसा जिले के कार्यकर्ताओं की बैठक के दौरान अभय चौटाला ने कहा कि परिवार में कोई विवाद नहीं है। अभय ने कहा, हमारे बीच काेई विवाद या झगड़ा नहीं है। बड़े भाई अजय सिंह चौटाला ने मुझे आज सुबह 10 बजे मिलने का समय दिया था। लेकिन, शायद उनको कोई इमरजेंसी होगी इसलिए नौ बजे ही सिरसा से कहीं चले गए। हमारे बीच कोई विवाद या झगड़ा नहीं है। सारे विवाद की जड़ तो मीडिया है।

सिरसा में पार्टी नेताओं की बैठक लेते अभय सिंह चौटाला।

अभय चौटाला ने कहा कि हरियाणा में लोकसभा चुनाव के साथ ही विधानसभा चुनाव भी होंगे। इसके लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को तैयार रहना होगा। उन्‍होंने कहा कि कुछ लोग पार्टी को कमजोर कर रहे हैं। गोहाना रैली में इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला की पांच घोषणाओं को पार्टी नेता व कार्यकर्ता जन जन तक पहुंचाएं।  20 नवंबर के बाद नई ऊर्जा से पार्टी का अभियान चलाएंगे।

सिरसा स्थित आवास पर मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा की सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों में वह रथ पर सवार होकर लोगों के बीच पहुंचेंगे। इसकी शुरुआत कुरुक्षेत्र से 1 दिसंबर को की जाएगी। उनका यह कार्यक्रम लगातार जारी रहेगा। इसमें मुख्य मुद्दा पानी की लड़ाई, स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू कराने और किसान के कर्ज माफी का है।

व‍रिष्‍ठ नेताओं की बैठक में अशोक अरोड़ा भी शामिल, 15 विधायक पहुंचे

सिरसा में पार्टी नेताओं की बैठक लेते अभय सिंह चौटाला।

सिरसा जिले के कार्यकर्ताओं की बैठक के बाद विधायकों, जिलों के पदाधिकारियों व वरिष्‍ठ पार्टी नेताओं की बैठक हो रही है। इसमें 15 विधायक मौजूद हैं। बैठक हिस्सा लेने के लिए इनेलो प्रदेशाध्यक्ष  अशोक अरोड़ा आर रामपाल माजरा भी पहुंचे हैं। सिरसा जिले के कार्यकर्ताओं की बैठक में सिरसा सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी, रानियां के विधायक राम सिंह कंबोज सिरसा के विधायक मक्खन लाल सिंगला उपस्थित रहे ।

अजय चौटाला जिलों के दौरे कर मिल रहे कार्यकर्ताओं से

बता दें कि अपने पुत्राें सांसद दुष्‍यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला को इनेलो से निष्कासित किए जाने के बाद तिहाड़ जेल से पैरोल पर बाहर आए अजय चौटाला खासे सक्रिय हैं। वह विभिन्‍न जिलों का दौरा कर रहे हैं और अपना और अपने बेटों का खेमा मजबूत करने में जुटे हैं। अजय के तेवर को देखते हुए अभय गुट भी सक्रिय हो गया है। अजय चौटाला ने 17 नवंबर को जींद में कार्यकारिणी की बैठक व अधिवेशन बुलाकर अपनी रणनी‍ति और कदम का खुलासा करने का ऐलान किया है। अभय चौटाला द्वारा इससे पहले 16 नवंबर को तेजा खेड़ा फार्म पर इनेलो की प्रदेश कार्यािकरणी की बैठक बुलाने की बात की गई थी।

समर्थकों के बीच अजय चौटाला।

ऐसे में अभय चौटाला का खेमा कार्यकारिणी के सदस्‍यों  और जिला व हलका पदाधिकारियों को अजय व दुष्‍यंत चौटाला से दूर रखने के प्रयास में लगा है। अभय ने इनेलो के विधायकों व सांसदों की अाज ही आपात बैठक बुलाई है। इसके साथ ही उनके इनेलो की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बुलाई हुई है। ऐसा माना जा रहा है कि सिरसा से प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक के बाद सभी सदस्यों को प्रदेश के बाहर कहीं घुमाने ले जाया जाएगा। अभय चौटाला प्रदेश कार्यकारिणी सदस्यों व पदाधिकारियों को भारत दर्शन पर ले जा सकते हैं।

पहले जानकारी आई कि अभय सिंह चौटाला विधायकों व कार्यकारिणी के सदस्‍यों को चार्टर्ड प्लेन से प्रदेश के बाहर ले जाएंगे। इसके लिए सिरसा में दो चार्टर्ड प्‍लेन खड़े होने की बात कही गई। लेकिन, यह भी बताया जा रहा है कि चार्टर्ड प्‍लेन की उड़ान की अनुमति में संभावित दिक्‍कत के कारण उन्‍हें इनेलो के रथ (विशेष बस) से ले जाया जा सकता है। पिछले कुछ समय से खड़ी बस की अचानक साफ-सफाई करने व उसे तैयार करने से इन चर्चाओं को बल मिला।  अभय सिंह चौटाला की कोठी पर एसवाईएल आंदोलन के लिए तैयार किए गए इस रथ को आज बाहर निकाला गया। रथ काफी समय से कोठी में खड़ा था।

कभी यूं एकजुट दिखता था चौटाला परिवार।

पूरे घटनाक्रम में यह स्‍पष्‍ट है कि अभय चौटाला का खेमा किसी भी कीमत पर प्रदेश कार्याकारिणी, विधायकों व जिला और हलका पदाधिकारियों को अजय चौटाला की पहुंच से दूर रखना चाहता है। अभय चौटाला यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि अजय चौटाला और उनके पुत्र पार्टी की कार्यकारिणी के माध्‍यम से इनेलो पर कब्‍जा न कर सकें।

देवीलाल की तरह चौटाला साहब को अपना फैसला बदलने को मजबूर कर देंगे : अजय

इससे पहले अपने बेटों दुष्‍यंत व दिग्विजय चौटाला के इनेलो से निष्‍कासन की चर्चा करते हुए अजय चौटाला ने कहा कि इनेलो कार्यकर्ताओं की पार्टी है, इसलिए सवाल ही नहीं की नई पार्टी का विचार हो। इनेलो किसी एक की पार्टी नहीं है बल्कि चौधरी देवीलाल के सिद्धांतों पर संघर्ष करने वाले कार्यकर्ताओं की पार्टी है। राजनीतिक विचारधारा बदल सकती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि परिवार के अंदर दरार है। मुझे तो ऐसी कोई दरार दिखाई नहीं दे रही। उन्होंने कहा कि चौधरी देवीलाल को भी ओमप्रकाश चौटाला को बुलाकर नेतृत्व सौंपना पड़ा था। हम भी ऐसे हालात पैदा कर देंगे कि चौ. ओमप्रकाश चौटाला को फैसले पर पुन: विचार करना होगा। 

 

 देवर अभय के गढ़ में गरजेगी भाभी

चौटाला परिवार में चल रही राजनीतिक कलह के बीच भाभी नैना चौटाला अपने देवर अभय चौटाला के खिलाफ खुलकर मैदान में आ गई हैं। नैना ने अब अभय चौटाला के विधानसभा क्षेत्र ऐलनाबाद में हरी चुनरी चौपाल कार्यक्रम करने का ऐलान कर दिया है। यह चौपाल 16 नवंबर को लगेगी। इससे अगले दिन 17 नवंबर को जींद में उनके पति अजय चौटाला बड़ी बैठक करने जा रहे हैं।

अपने बेटों दुष्यंत और दिग्विजय चौटाला के इनेलो से निष्कासन से आहत नैना चौटाला ने करनाल के घरौंडा में आयोजित हरी चुनरी चौपाल के दौरान पहली बार अभय चौटाला के विरूद्ध मोर्चा खोला था। इस चौपाल में उन्होंने बगैर किसी का नाम लिए 15 नेताओं के पार्टी से निष्कासन की मांग तक कर डाली थी। ऐलनाबाद में होने वाली हरी चुनरी चौपाल की जिम्मेदारी दिग्विजय चौटाला को सौंपी गई है। अजय चौटाला ने 17 नवंबर को जींद में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है। इसमें कितने पदाधिकारी और विधायक शामिल होते हैैं, इस पर सभी की निगाह टिकी हुई है। मां और पिता के दोनों कार्यक्रमों से पहले बेटे दुष्यंत चौटाला 10 नवंबर को चंडीगढ़ में मीडिया से मुखातिब होंगे।

Posted By: Sunil Kumar Jha