संवाद सहयोगी, डबवाली (सिरसा): पैक्स देसूजोधा का प्रबंधक बलविद्र सिंह फर्जी बिलों के आधार पर सरकारी पैसा हड़प गया। सहकारी समितियां डबवाली के निरीक्षक नरेश गर्ग ने जांच रिपोर्ट में उसे दोषी करार दिया है। उसके खिलाफ गबन, दुरुपयोग तथा स्टॉक खुर्द-बुर्द करने के आरोप में कानूनी कार्रवाई करने की अनुशंसा की है। निरीक्षक ने रिपोर्ट में लिखा है कि आरोपित के खिलाफ पैक्स स्टाफ सेवा नियम 2014 संशोधित नियम 2017 के नियम 20 के अनुसार सख्त कार्रवाई की जाए। साथ ही गबन किए गए सरकारी पैसे को ब्याज समेत वसूला जाए। निरीक्षक ने पैक्स का कार्य सुचारु रुप से चलाने के लिए सेल्समैन जगसीर सिंह को कार्यकारी प्रबंधक का कार्यभार सौंपने की सिफारिश की है। आरोपित की कारगुजारी की पोल पैक्स के पूर्व सेल्जमैन बिकर सिंह मांगेआना तथा पैकस प्रधान रुपिद्र सिंह ने खोलते हुए सीएम विडो पर शिकायत दर्ज करवाई थी। इसके बाद मामले की जांच शुरु हुई थी। फर्जी बिल से गबन, फिर राजनीतिक हवाला दिया

नवंबर 2018 में आरोपित ने 14000 रुपये की ईंटें खरीद की थी। उसका कहना था कि इंटों का प्रयोग फुल्लों गांव स्थित खाद बिक्री केंद्र में प्रयोग की गई थी। 27 अगस्त 2019 को जांचकर्ता फुल्लो पहुंचे तो एक ईंट तक दिखाई नहीं दी। प्रबंधक ने जवाब दिया ईंटों को ग्रामीण उठा ले गए हैं। राजनीतिक हवाला देने लगा। निरीक्षक के अनुसार फर्जी बिल के आधार पर 14 हजार रुपये का गबन किया गया है। इसके अलावा इंटों को एक और बिल भी लगाया गया है। जीप का किराया भी रिकॉर्ड में दिखाया गया

पैक्स की प्रबंधक कमेटी द्वारा विभिन्न पारित प्रस्तावों को रद करने के लिए सात बार हिसार जाने के लिए जीप खर्च 25 हजार 800 रुपये दर्शाया गया है। किसी प्रकार की जीप खर्च की रसीद, चालक का नाम, मोबाइल नंबर रिकॉर्ड में नहीं दर्शाया हुआ है। जबकि प्रबंधक को जीप करने का अपने स्तर पर अधिकार नहीं है। उपरोक्त राशि का दुरुपयोग करके हानि पहुंचाने की बात साबित हुई है। पूर्व सेल्समैन बिकर सिंह बनाम जीबी सीबी सिरसा केस में पैक्स देसूजोधा पार्टी नहीं है। न ही प्रबंधक कमेटी द्वारा किसी को वकील करने के लिए अधिकृत किया हुआ है। इसके बावजूद रिकॉर्ड में 19 फरवरी 2018 को 22 हजार रुपये वकील फीस दिखाई गई है। यही नहीं बिना एजेंडा खर्चा पास दिखा दिया गया है। :::::::::::सीएम विडो पर आई शिकायत की जांच की गई है। पैक्स देसूजोधा का रिकॉर्ड जांचने के बाद सरकारी पैसे के गबन, दुरुपयोग की पुष्टि हुई है। आगामी कार्रवाई के लिए जांच रिपोर्ट सहायक रजिस्ट्रार डबवाली को सौंप दी गई है।

-नरेश गर्ग, निरीक्षक, सहकारी समितियां, डबवाली-1

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप