जागरण संवाददाता, सिरसा : राजस्थान से भाजपा के सांसद बाबा बालकनाथ के इशारे पर रोहतक स्थित औघड़ पीर मठ में तोडफ़ोड़ की गई है। लगातार पिछड़ा समाज के संत महापुरुषों पर अत्याचार हो रहे हैं, जो सहनीय नहीं हैं। कोर्ट के आदेशों को भी दरकिनार कर मठ की भूमि पर जबरन कब्जा किया जा रहा है। अगर सरकार ने इस मामले में जल्द कोई निर्णय नहीं लिया तो पिछड़ा समाज अन्य वर्गों को साथ लेकर सड़कों पर उतरेगा। उक्त बातें संविधान बचाओ मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष करनैल सिंह ओढ़ां ने पत्रकार वार्ता में कही। करनैल सिंह ने बताया कि रोहतक में बाबा बालकनाथ ने हमारे 250 वर्ष पुराने साधु संतों की समाधियों को तुड़वाकर देश एवं प्रदेश के अनुसूचित जाति वर्ग, सामान्य जाति, पिछड़ा वर्ग के श्रद्धालुओं की आस्था को ठेस पहुंचाई है। मनीराम बहलान ने बताया कि रमेशनाथ 2016 से यहां गद्दीनशीन हैं और कोर्ट ने भी उन्हें यहां विराजमान माना है, लेकिन इसके बाद भी इन लोगों द्वारा जबरन उनके स्थान पर किसी अन्य व्यक्ति को बैठाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने इस मामले में जल्द कोई कार्रवाई नहीं की तो देशभर में सभी वर्गों को साथ लेकर सड़कों पर उतरकर सरकार को घेरा जाएगा। इस मौके पर उनके साथ जसबीर सिंह खालसा उपस्थित थे।

Edited By: Jagran