जागरण संवाददाता, रोहतक : डीसी कैप्टन मनोज कुमार ने एनीमिया के विरुद्ध युद्ध स्तर पर कार्य करने का आह्वान किया है और साथ ही कहा है कि इस बारे में अधिक से अधिक जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएं। वे वीरवार को लघु सचिवालय के सभागार में जिला स्तरीय मलेरिया कमेटी की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

कैप्टन मनोज कुमार ने कहा कि एनीमिया एक तरह की बीमारी है जो रक्त की कमी से पीड़ित व्यक्ति को शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं और हिमोग्लोबिन की कमी से होता है। हिमोग्लोबिन रक्त की कोशिकाओं के लिए आक्सीजन आबाध्य करने के लिए आवश्यक होता है। यह शरीर में आयरन की कमी से भी होता है। खून की कमी के लक्षण के बारे में उपायुक्त ने कहा कि यह सभी वर्ग के बच्चों एवं गर्भवत्ती महिलाओं में अधिक पाया जाता है, जिनको एनीमिया होने पर शारीरिक कमजोरी, थकान, सिर दर्द, चक्र आना त्वचा का पीला होना, दिल की धड़कन का बढऩा, नाखुन और जीभ का सफेद होना आदि लक्षण दिखाई देते है। हिमोग्लोबिन की जांच भी करवानी चाहिए।

-टीकाकरण में लाएं तेजी

डीसी कैप्टन मनोज कुमार ने बैठक में कोरोना रोधी टीकाकरण में तेजी लाने के निर्देश दिए और कहा कि टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि रोजाना के लक्ष्य निर्धारित करके टीके लगाए जाएं। बैठक में उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार ने मैटर्नल एंड चाइल्ड हैल्थ केयर बारे भी आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए। उन्होंने संस्थागत प्रसूति बारे रिपोर्ट ली और आवश्यक निर्देश भी जारी की है।

बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त महेंद्र पाल, सिविल सर्जन डा. जेएस पुनिया, डिप्टी सिविल सर्जन केएल मलिक, डा. दिनेश मलिक, डा. नीना, डा. सत्यवान, डा. परितेव, डा. रेनू, डा.जीडी शर्मा, डा. कमला वर्मा, डा. नीलम कुमार, कृष्णा भारद्वाज, वैशाली, देवेंद्र चहल व सुरेश भारद्वाज सहित अन्य संबंधित अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran