जेएनएन, रोहतक। डेरा प्रमुख गुरमीत रामरहीम के कारण सुनारिया जेल प्रशासन के समक्ष बड़ी समस्‍या पैदा हाे गई है और इससे जेल प्रशासन बेहद परेशान है। यह मुसीबत गुरमीत राम रहीम के अनुयायियों ने पैदा की है।  अब जेल प्रशासन की समझ में नहीं आ रहा है कि वह इससे कैसे निपटते। यह समस्‍या पैदा हुई है रक्षाबंधन और राम रहीम के जन्‍मद‍िन के कारण। पहले उसके जन्‍मदिन पर अनुयायियोें द्वारा भेजे गए ग्रीटिंग कार्ड के जेल में अंबार लग गए और अब रक्षाबंधन पर लिफाफों में हजारों की संख्‍या में राखियां आई हैं। जेल प्रशासन के लिए इनको रखना मुसीबत बन गया है। इन ग्रीटिंग कार्डों व राखियाें के पैकेटों का वजन करीब एक टन है अौर अब भी इनका आना जारी है। इनकी जांच भी बड़ी समस्‍या है। शह है कि राखियों में कोई इलेक्‍ट्रानिक डिवाइस या चिप भी हो सकता है, जिसका इस्‍तेमाल कर गुरमीत राम रहीम बाहर से संपर्क में रह सकता है।

राम रहीम के वजन से 15 गुना ज्यादा पहुंचे अनुयायियों के ग्रीटिंग कार्ड

राम रहीम के लिए राखी के हजारों पैकेट डाकघर पहुंचे हैं। रक्षाबंधन पर्व पर बोरे भरकर पहुंच रहीं राखियों से जेल व डाक विभाग की परेशानी बढ़ गई है। डाकघर के कर्मचारी के लिए राखी के पैकेट रिसीव करना, रिकॉर्ड दर्ज करना, छंटनी के बाद इसे डिस्पैच करना कठिन हो गया है। जेल प्रशासन का भी इससे बुरा हाल हाे गया है।  सुरक्षा के लिहाज से हर सामान व पैकेट को खंगाला जा रहा है। राखी के पैकेट के जरिए जेल में इलेक्ट्रोनिक डिवाइस न पहुंच पाए, इसके लिए उन्हें स्कैन किया जा रहा है। इन पैकेटों को स्कैन करना जेल प्रशासन का सिरदर्द बन गया है। 

इसके अलावा, गुरमीत राम रहीम को जन्‍म दिन इसी महीने था और लाखों की संख्‍या में अनुयायियों के ग्रीटिंग कार्ड आए। 'लव यू पापा, तुम जियो हजारों साल, साल के दिन हो 50 हजार, मिस यू पापा, तुम जल्दी बाहर आना... 'जैसे जन्मदिन के बधाई संदेश ग्रीटिंग कार्ड के माध्यम से सुनारिया जेल में राम रहीम के पास पहुंचे। राम रहीम का जन्मदिन 15 अगस्त को था, लेकिन अभी तक डाक से ग्रीटिंग कार्ड का अाना इसके बाद भी जारी रहा। ये ग्रीटिंग कार्ड हजारों में नहीं बल्कि लाखों की संख्या में आए।

15 अगस्त को था राम रहीम का जन्मदिन, अभी तक पहुंच रहे बधाई संदेश

 लाखों की संख्या में पहुंचे ग्रीटिंग कार्ड के बाद अब राखियां अाने के सिलसिले से डाक विभाग भी परेशान है। ये कार्ड और राखियां जेल प्रशासन के लिए भी आफत बन गए हैं। एक अनुमान के अनुसार, राम रहीम का वजन 84 किलो है जबकि अभी तक पहुंचे ग्रीटिंग कार्ड व राखियों का वजन एक हजार किलो से अधिक हो चुका है।

राम रहीम में 84 किलो वजन, ग्रीटिंग काड्र्स का वजन एक टन से अधिक पहुंचा

साध्वी दुष्कर्म मामले में 20 साल की सुनारिया जेल में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम का जन्मदिन 15 अगस्त को था। परिजनों ने जेल में मुलाकात करके उसे जन्मदिन की बधाई दी थी। मगर डेरा के जो अनुयायी राम रहीम से जेल में मुलाकात नहीं कर पा रहे, उन्होंने जेल में ग्रीटिंग कार्ड भेजकर जन्मदिन की बधाई दी। इसके बाद पिछले तीन-चार दिनों से राखियाें के आने का सिलसिला शुरू हो गया।

यह भी पढ़ें: पाकिस्‍तान जाकर नवजोत सिंह सिद्धू को याद आए अटल, जानिए- क्या कह

हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों से स्पीड पोस्ट, रजिस्ट्री व साधारण डाक से लाखों की संख्या में डेरा अनुयायियों ने पहले ग्रीटिंग कार्ड और अब राखियां भेजे हैं। सादे कागज से लेकर महंगे से महंगा ग्राीटिंग कार्ड व राखियांं राम रहीम को भेजे गए हैं।

डाक पहुंचाने के लिए डाकिये को करना पड़ रहा ऑटो

रोहतक के मुख्य डाकघर से सुनारिया उप डाकघर तक ग्रीटिंग कार्ड और राखियाें के लिफाफों से भरे थैलों को ले जाने के लिए डाकिये को ऑटो करना पड़ रहा है। डाकिया राजेश कुमार का कहना है कि ग्रीटिंग कार्ड व राखियां सुनारिया जेल तक पहुंचाने के लिए ऑटो के किराये के पैसे अपनी जेब से भर रहा है। उसे दस साल हो गए, लेकिन एक ही व्यक्ति के इतने ग्रीटिंग कार्ड व राखियो आज तक नहीं बांटे हैं।

यह भी पढ़ें: पाक आर्मी चीफ को झप्‍पी देना सिद्धू पर पड़ा भारी, अब दे रहे सफाई, कैप्‍टन भी हुए गरम

जेल सूत्रों का कहना है कि ये ग्रीटिंग कार्ड व राखियां जेल प्रशासन के लिए आफत बन गए हैं। लाखों की संख्या में पहुंचे ये कार्ड व राखियां की जांच जेल के कर्मचारी व‍ अधिकारी करते हैं ताकि कोई ऐसी चीज न लिखी हो या ऐसी चीज न हो जो किसी साजिश का अंग हो। जेल उपाधीक्षक की ग्रीटिंग कार्ड व राखियों को चेक करने की ड्यूटी लगाई गई है।

------

'' पिछले कई दिनों से डाक की संख्या कई गुना बढ़ गई है। इसमें 90 फीसद डाक केवल राम रहीम के नाम की आ रही है। ग्रीटिंग कार्ड व राखियों के 15-15 किलो के पैकेट बनकर आ रहे हैं।

                                                                                    - जगदीश बुधवार, इंचार्ज, सुनारिया उप डाकघर।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

Posted By: Sunil Kumar Jha