जागरण संवाददाता, रोहतक : शहर से सूखा-गीला निस्तारण करने के लिए गुरुग्राम मॉडल पर कार्य होगा। गुरुग्राम में सूखा-गीला कचरा निस्तारित करने लिए लागू मॉडल नगर निगम रोहतक कार्यालय पर लागू होगा। फिलहाल एजेंसी से शहर में कचरा निस्तारण के लिए मदद मांगी गई है। बुधवार को संबंधित एजेंसी के अधिकारी रोहतक पहुंचे। उन्होंने यही सुझाव दिया है कि घर-घर कचरा निस्तारित करने के लिए कार्य हो।

स्वच्छ सर्वेक्षण-2020-2021 के लिए नगर निगम प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। इस बार स्वच्छ सर्वेक्षण में देश भर में 35वां स्थान मिला था। अगली बार टॉप-10 में पहुंचने का लक्ष्य तय किया गया है। निगम प्रशासन की कोशिश है कि अगली बार बेहतर परिणाम मिले। इसलिए गुरुग्राम की एक एजेंसी से संपर्क किया गया है। संबंधित कंपनी गुरुग्राम में स्वच्छता को लेकर कार्य कर रही है। नगर निगम के आयुक्त प्रदीप गोदारा ने बताया है कि संबंधित एजेंसी के अधिकारी रोहतक पहुंचे। संबंधित एजेंसी के अधिकारियों ने यही सुझाव दिया है कि घरों से निकलने वाले कचरे को श्रेणियों में अलग-अलग बांटा जाए। इसमें सूखा-गीला कचरा, ई-वेस्ट, प्लास्टिक वेस्ट को अलग-अलग डाला जाए। गीले कचरे से हरा खाद तैयार हो। ई-वेस्ट और प्लास्टिक उठाने वाली एजेंसी को कचरा दिया जाए। सीधे तौर से यही कोशिश है कि सुनारिया स्थित सॉलिडवेस्ट मैनेजमेंट प्लांट में कचरा कम से कम डाला जाए।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस